तरल गतिकी में, पटलीय प्रवाह (laminar flow) उस प्रवाह को कहते हैं जिसमें तरल, पतली-पतली पट्टियों के रूप में प्रवाहित होते हुए माना जा सकता है। इसे स्तरीय प्रवाह भी कहते हैं और तरल के ये 'स्तर' आपस में बहुत कम या नहीं के बराबर मिश्रित होते हैं।

इस झरने के कुछ भाग में पटलीय प्रवाह (दाहिने तरफ) है और कुछ में प्रक्षुब्ध प्रवाह (बाएं तरफ)

अल्प वेग पर तरल की गति पटलीय होती है जबकि अधिक वेग पर अपटलीय या प्रक्षुब्ध प्रवाह (turbulant flow)। पटलीय गति में प्रवाह की दिशा के लम्बवत कोई गति नहीं होती, न ही इस गति में भंवर धाराएँ होतीं हैं।

सन्दर्भसंपादित करें

इन्हें भी देखेंसंपादित करें