पथ के साथी महादेवी वर्मा द्वारा लिखे गए संस्मरणों का संग्रह है, जिसमे उन्होंने अपने समकालीन रचनाकारों का चित्रण किया है। जिस सम्मान और आत्मीयतापूर्ण ढंग से उन्होंने इन साहित्यकारों का जीवन-दर्शन और स्वभावगत महानता को स्थापित किया है वह अपने आप में बड़ी उपलब्धि है। 'पथ के साथी' में संस्मरण भी हैं और महादेवी द्वारा पढ़े गए कवियों के जीवन पृष्ठ भी। उन्होंने एक ओर साहित्यकारों की निकटता, आत्मीयता और प्रभाव का काव्यात्मक उल्लेख किया है और दूसरी ओर उनके समग्र जीवन दर्शन को परखने का प्रयत्न किया है।

पथ के साथी  
Pathkesathi.jpg
लेखक महादेवी वर्मा
देश भारत
भाषा हिंदी
विषय संस्मरण
प्रकाशक राधाकृष्ण प्रकाशन, नई दिल्ली
प्रकाशन तिथि 1956
पृष्ठ 92
आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-8031-118-5

'पथ के साथी' में निम्नलिखित 11 संस्मरणों का संग्रह किया गया है-

  • दद्दा (मैथिली शरण गुप्त)
  • निराला भाई
  • स्मरण प्रेमचंद
  • प्रसाद
  • सुमित्रानंदन पंत
  • सुभद्रा (कुमारी चौहान)
  • प्रणाम (रवींद्रनाथ ठाकुर)
  • पुण्य स्मरण (महात्मा गांधी)
  • राजेन्द्रबाबू (बाबू राजेन्द्र प्रसाद)
  • जवाहर भाई (जवाहरलाल नेहरू)
  • संत राजर्षि (पुरुषोत्तमदास टंडन)