प्रकाश के प्रिज्म (या किसी अन्य माध्यम ) से होकर गुजरने पर विभिन्न रंगों के प्रकाश में बँट जाने को परिक्षेपण (अंग्रेज़ी: Dispersion) कहा जाता है।

प्रिज्म द्वारा वर्ण विक्षेपण
प्रकाश के तरंगदैर्घ्य के परिवर्तन के साथ विभिन्न प्रकार के काचों के अपवर्तनांक का परिवर्तन (निर्वात के सापेक्ष)

सूर्य के प्रकाश से प्राप्त रंगों में बैंगनी रंग का विक्षेपण सबसे अधिक एवं लाल रंग का विक्षेपण सबसे कम होता है। न्यूटन ने 1666 ई. में पाया कि भिन्न-भिन्न रंग भिन्न-भिन्न कोणों से विक्षेपित होते हैं। पारदर्शी पदार्थ में भिन्न-भिन्न रंगों के प्रकाश के भिन्न-भिन्न वेग होने के कारण वर्ण-विक्षेपण होता है। इसी को दूसरे शब्दों में कहते हैं कि भिन्न-भिन्न रंगों के लिये किसी पदार्थ का अपवर्तनांक भिन्न-भिन्न होता है।

सन्दर्भसंपादित करें

इन्हें भी देखेंसंपादित करें