पलवल जिला

हरियाणा का जिला
(पलवल ज़िले से अनुप्रेषित)
पलवल ज़िला
Palwal district
मानचित्र जिसमें पलवल ज़िला Palwal district हाइलाइटेड है
सूचना
राजधानी : पलवल
क्षेत्रफल : 1,359 किमी²
जनसंख्या(2011):
 • घनत्व :
10,40,493
 770/किमी²
उपविभागों के नाम: तहसील
उपविभागों की संख्या: 3
मुख्य भाषा(एँ): हरियाणवी, हिन्दी


पलवल ज़िला भारत के हरियाणा राज्य का एक ज़िला है। ज़िले का मुख्यालय पलवल है।[1][2][3] यह हरियाणा का एकमात्र जिला है जो बृज क्षेत्र में आता है।

इतिहाससंपादित करें

पलवल आज़ादी में अपना अहम योगदान रखता है। यहाँ राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पहली राजनीतिक गिरफ्तारी हुई थी। नेताजी सुभाषचंद्र बोस ने पलवल में अपने हाथों से एक कमरे बनवाने के लिए नींव रखी। महात्मा गांधी और नेताजी सुभाषचंद्र बोस के साथ आज़ादी की लड़ाई में पलवल के स्वतंत्रता सेनानियों ने महत्त्वपूर्ण योगदान दिया था। महात्मा गांधी के साथ पलवल के लाला गोबिंदराम बेधड़क, दीपचंद सत्याग्रही, लल्लू भाई पटेल, लक्ष्मीनारायण, लछमन दास बंसल, योगेंद्र पाल भारती, लाला भनुआमल मंगला ने आज़ादी की लड़ाई में सहयोग किया था। उन्होंने गांधीजी के साथ जेल यात्राएं भी कीं। 9 अप्रैल 1919 को पंजाब में गांधी जी ऐंट्री पर बैन लगा दिया लेकर पंजाब के सेक्रेटरी ने आदेश जारी कर दिए थे। 10 अप्रैल को जैसे ही महात्मा गांधी पलवल रेलवे स्टेशन पहुँचे तो उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। गांधी जी ने पंजाब में प्रवेश न करने का ब्रिटिश सरकार का आदेश मानने से इनकार कर दिया था। मथुरा के बाद पलवल पहला स्टेशन था, जहाँ ट्रेन को रोककर गांधी जी को गिरफ्तार किया गया। यहाँ से गिरफ्तार कर गांधी जी को मुंबई ले जाकर छोड़ दिया गया।

संस्कृतिसंपादित करें

पलवल जिला हरियाणा के बृज क्षेत्र में आता है। इसलिए यह सांस्कृतिक रूप से भी महत्वपूर्ण है। यहां होली धूमधाम से मनाई जाती है। बृज भाषा के रसिया एवं भजन यहां खूब प्रचलित हैं। [4]

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "General Knowledge Haryana: Geography, History, Culture, Polity and Economy of Haryana," Team ARSu, 2018
  2. "Haryana: Past and Present Archived 29 सितंबर 2017 at the वेबैक मशीन.," Suresh K Sharma, Mittal Publications, 2006, ISBN 9788183240468
  3. "Haryana (India, the land and the people), Suchbir Singh and D.C. Verma, National Book Trust, 2001, ISBN 9788123734859
  4. "बृज में शुरू हुई होली महोत्सव की तैयारियां, कलाकारों ने वाद्य यंत्रों से रिहर्सल शुरू की". दैनिक भास्कर.