मुख्य मेनू खोलें

राष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तान में शूरा के लिए नहीं चुना है। पाकिस्तान की संसद आम चुनाव द्वारा स्थापित किये गये निचले सदन जबकि प्रांतीय सदनों के सदस्यों द्वारा सदन के लिए नहीं चुना है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री निचले सदन में चुना जाता है जबकि राष्ट्रपति का चयन निर्वाचन कॉलेज द्वारा किया जाता है। प्रांतीय और राष्ट्रीय सदनों के अलावा पाकिस्तान में पांच हजार से अधिक चयनित नगर निगम सरकारें भी काम कर रही हैं।

पाकिस्तान में कई राजनीतिक दल हैं। आमतौर पर कोई भी एक पार्टी बहुमत हासिल नहीं करती और आम चुनाव के बाद सत्तारूढ़ गठबंधन का गठन जरूरी है।

अनुक्रम

पाकिस्तान की निर्वाचन व्यवस्थासंपादित करें

संवैधानिक प्रावधानसंपादित करें

पाकिस्तान की संविधान, हालाँकि, चुनाव प्रक्रिया को संपूर्ण विस्तार से अंकित नहीं करती है, परंतु वह चुनावों का एक विस्तृत मूल ढाँचे, मूल उसूल व प्रक्रिया को संक्षिप्ततः परिभाषित करती है, एवं क्रमिक निर्वाचनों के बीच की कालावधी भी देते है। निर्वाचन प्रक्रिया संबंधित मुख्य मूल्य, जिसके आधिर पर चुनाव आयोजित किये जाते हैं, का प्रारूप पाकिस्तानी संविधान के अनुच्छेद 222-226 के पाठ 2 में दिये गए हैं:

  1. एक समय पर कोई भी व्यक्ति संसद के दोनों सदनों (क़ौमी असेम्बलीसेनेट) अथवा किसी एक संसदीय सदन व किसी अन्य प्रांतीय विधायिका की सदस्य नहीं हो सकता है।
  2. राष्ट्रीय सभा या किसी प्रांतीय विधायिका के भंग हो जाने के पश्चात नब्बे दिनों के भीतर ही उस सदन के लिये चुनाव करवाए जाएँ, एवं ऐसी चुनाव के परिणाम की घोषणा चौदह दिनों के भीतर ही की जाए।
राष्ट्रीय सभा अथवा किसी प्रांतीय सभा हेतु साधारण निर्वाचन को, सभा कालांत होने के ठीक पश्च दिवस से, साठ दिवसों के भीतर ही आयोजित किये जाएँगे, सिवाय इस अवसर के की जब सभा को कालावधी के पूर्व ही भंग कर दिया गया हो, और इस निर्वाचन के परिणाम की घोषणा निर्वाचन समाप्ति के पश्चात के चौदह दिवसों के भीतर ही की जाएगी
A general election to the National Assembly or a Provincial Assembly shall be held within a period of sixty days immediately following the day on which the day on which the term of the Assembly is due to expire, unless the Assembly has been sooner dissolved, and the results of the election shall be declared not later than fourteen days before that day.
— अनुच्छेद 222-226 भाग 8:निर्वाचन पाठ 2:निर्वाचन विधि व चुनाव आचरण; पाकिस्तान का संविधान

पाकिस्तान का निर्वाचन आयोगसंपादित करें

पाकिस्तान के निर्वाचन आयोग की स्थापना पाकिस्तान के संविधान द्वारा किया गया था। इसे 1956 में स्थापित किया गया था। यह एक स्वतंत्र संस्था है जो इस्लामी गणराज्य पाकिस्तान में सारे संसदीय, प्रांतीय व अन्य सारे चुनावों को स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव आयोजित के लिए जिम्मेदार है। मुख्य चुनाव आयुक्त इस संस्था का प्रमुख होता है, जोकी साधारणतः एक वरिष्ठ उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश होता है, और देश में स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव कराने के अलावा हर उम्मीदवार की जांच का भी जिम्मेदार होता है। इसके अलावा देश के सभी राजनीतिक दलों को इस विलय और उनके राजनीतिक व आर्थिक मामलों की निगरानी भी इस संस्था की जिम्मेदारियों में शामिल हैं।

निर्वाचन आयोग, मुख्य निर्वाचन आयुक्त समेत चारों प्रांतों से नियुक्ति किये गए सदस्यों(जिनमें से प्रत्येक, उच्च न्यायालय का न्यायाधीश होता है) से गठित होता है। मुख्य निर्वाचन आयुक्त का कार्यकाल 3 वर्ष होता है, जिस बीच उन्हें कार्यकाल व वित्तीय सुरक्षा प्रदान की जाती है। मुख्य निर्वाचन आयुक्त व अन्य आयुक्तों को पाकिस्तान के राष्ट्रपति द्वारा नियुक्ति किया जाता है।

चुनाव स्तरसंपादित करें

संसदीय चुनावसंपादित करें

क़ौमी असेम्बलीसंपादित करें

सेनेटसंपादित करें

राष्ट्रपति चुनावसंपादित करें

स्थानीय इकाई चुनावसंपादित करें

चुनावी इतिहाससंपादित करें

1947 - 1958 ई।संपादित करें

1947 और 1958 ई। के दौरान पाकिस्तान में राष्ट्रीय स्तर पर कोई आम चुनाव मनिकदनह हो सके। प्रांतीय चुनाव बहरहाल आयोजित होते रहे। पश्चिमी पाकिस्तान में आयोजित होने वाले प्रांतीय चुनावों तीव्र आलोचना का निशाना बनाया जाता रहा। [1] पाकिस्तान में पहले आम चुनाव पंजाब में मार्च 1951 में आयोजित हुए। यह चुनाव 197 सीटों के लिए आयोजित की गई। कल 939 उम्मीदवारों ने 189 सीटों के लिए प्रतिस्पर्धा जबकि बाकी सीटों पर निर्विरोध सदस्यों चुने गए। इन चुनावों में कुल सात राजनीतिक दलों ने हिस्सा लिया। कल पंजीकृत मतदाताओं की संख्या लगभग नौ लाख थी। इन चुनावों में मतदान आने बहुत कम रहा, लाहौर कि राष्ट्रपति स्थान है भी केवल 30% मतदान रहा।
दिसंबर 1951 में सूबा सरहद में प्रांतीय चुनावों का आयोजन किया गया।पाकिस्तान के चुनावी इतिहास सटीक हारने वाले उम्मीदवारों ने चुनाव परिणाम मानने से इनकार कर दिया और कथित भ्रष्टाचार और धांधली के आरोप लगाए।इसी तरह मई 1953 में सिंध प्रांत के प्रांतीय चुनाव में पाकिस्तान मुस्लिम लीग हार हुई और बंगाली राष्ट्रवादी पार्टी ने जीत हासिल की। इन चुनावों में भी भ्रष्टाचार और धांधली के आरोप लगाए गए। [2]

राष्ट्रपति चुनाव 2007संपादित करें

राष्ट्रपति चुनाव 2008संपादित करें

आम चुनाव 2008संपादित करें

इन चुनावों में पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी बहुमत दल के रूप में उभरी और राष्ट्रीय सरकार की स्थापना की।

राजनीतिक दल वोट प्रतिशत सीटें सीटें (महिला) सीटें (अल्पसंख्यक) कल
पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी 10,606,486 30.6% 97 23 4 124
पाकिस्तान मुस्लिम लीग (एन) 6,781,445 19.6% 71 17 3 91
पाकिस्तान मुस्लिम लीग (क्यू) 7,989,817 23.0% 42 10 2 54
मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट 2,507,813 7.4% 19 5 1 25
अवामी नेशनल पार्टी 700,479 2.0% 10 3 0 13
एमएमए

'उल्लेखनीय है कि जमाते इस्लामी पाकिस्तान, जमीित उलमाए पाकिस्तान, आंदोलन जिफ़्रीह पाकिस्तान और जमीित अहले हदीस ने इन चुनावों में भाग नहीं लिया।

772,798 2.2% 6 1 0 7
पाकिस्तान मुस्लिम लीग (एफ) 4 1 0 5
पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (शियरपाउ) 140,707 0.4% 1 0 0 1
नेशनल पीपुल्स पार्टी 1 0 0 1
बलूचिस्तान नेशनल पार्टी (सार्वजनिक) 1 0 0 1
मुक्त 18 0 0 18
'कल' '34,665,978' '100%' '270' '60' '10' '340'
ज़रिए: चुनाव आयोग पाकिस्तान, /pakistan2008.txt आदम कार का चुनाव अभिलेखागार

आम चुनाव 2013संपादित करें

पाकिस्तान में चुनाव


सन्दर्भसंपादित करें

  1. पाकिस्तान की चुनावी सुधारों की रिपोर्ट पाकिस्तान सरकार, 1956
  2. पाकिस्तानी चुनाव बारे मानवाधिकार संगठन की रिपोर्ट

अधिक देखेंसंपादित करें