पार्थ चटर्जी सबाल्टर्न अध्ययन और उत्तर औपनिवेशिक स्कूलों से संबंधित एक भारतीय विद्वान है। इनका जन्म १९४७ में कलकत्ता में हुआ।[1] यह एक बहु-विषयक विद्वान है जिनका विशेष ज़ोर राजनीति विज्ञान, नृविज्ञान और इतिहास पर है। शिक्षा क्षेत्र मैं उनके योगदान के लिए वर्ष २००९ में फुकुओका एशियाई संस्कृति पुरस्कार से सम्मानित किया गया। [2]

व्यवसायसंपादित करें

यह राजनीतिक विज्ञान के एक माननीय प्राध्यापक होने के साथ "सेंटर फॉर स्टडीज़ इन सोशल साइंस" , कलकत्ता के निदेशक भी रह चुके हैं। वर्तमान में कोलंबिया विश्वविद्यालय में नृविज्ञान और दक्षिण एशियाई अध्ययन के प्राध्यापक है। यह सबाल्टर्न अध्ययन सामूहिक के एक संस्थापक सदस्य है।[3]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. William Wheeler. "Partha Chatterjee". मूल से 24 मार्च 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 22 अप्रैल 2015.
  2. "Past Laureates: Fukuoka Prize". फुकुओका. मूल से 30 दिसंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि २२ अप्रैल २०१५.
  3. कोलंबिया विश्वविद्यालय. "faculty profile". मूल से 27 मार्च 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 22 अप्रैल 2015.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें