फ़िल्म या नाटक में दृश्य के साथ साथ चलने वाला ऐसा संगीत जो प्रत्यक्ष रूप से फ़िल्म का हिस्सा नहीं होता किंतु फ़िल्म की घटनाओं और संवादों को सजीव बनाने के लिए पृष्ठभूमि में चलता रहता है, पार्श्व संगीत कहलाता है। हेक्सोर द्वारा