पिण्डिका

शिव की देवी, देवी शक्ति का अराजक निरूपण, जिसका अर्थ है "गर्भ, उत्पत्ति, वास, योनी, योनि, गर्भाशय, स्त्री उपकारी अंग"
पिण्डिका दो रूपों में पायी जाती है- वृत्ताकार तथा वर्गाकार। यह स्त्री सृजनात्मक ऊर्जा का दैवी प्रतीक है। पिण्डिका दो रूपों में पायी जाती है- वृत्ताकार तथा वर्गाकार। यह स्त्री सृजनात्मक ऊर्जा का दैवी प्रतीक है।
पिण्डिका दो रूपों में पायी जाती है- वृत्ताकार तथा वर्गाकार। यह स्त्री सृजनात्मक ऊर्जा का दैवी प्रतीक है।

योनि या पिण्डिका, हिन्दू धर्म में शक्ति का प्रतिकात्मक चित्रण है। पिण्डिका को प्रायः लिङ्ग सहित दर्शाया जाता है।