मूल चित्र रचना एनरिको मजा़न्ति द्वारा

पिनोकियो (अंग्रेजी:Pinocchio) एक इतालवी काल्पनिक चरित्र है जिसकी रचना 1883 में कार्लो कोल्लोडी ने की थी। यह पहली बार १८८३ में पिनोकियो के कारनामे या द एडवेंचर ऑफ पिनोकियो मे अवतरित हुआ था। कथा के अनुसार इसकी रचना एक काष्ठकार गपीतो ने एक छोटे गांव में चीड़ की लकड़ी से की थी। पर अपनी रचना के पश्चात पिनोकियो एक असली लड़का बनने की सोचने लगा। पिनोकियो जब लड़का बन गया तब, वह जब भी झूठ बोलता था तो उसकी नाक लम्बी होने लगती थी। पिनोकियो का अर्थ तश्कन भाषा में चीड़ का बीज होता है। मानक इतालवी भाषा मे इसे पिनोलो कहा जाता है जो दो शब्दों, पिनो अर्थार्थ चीड़ और ओकियो यानि आँख होता है।

सन्दर्भसंपादित करें