जब किसी निकाय में ऐसी व्यवस्था हो कि आउटपुट का एक भाग इनपुट में दिया जा रहा हो तो इस व्यवस्था का नाम पुनर्भरण या फीडबैक (feedback) है। पुनर्भरण एक उपयोगी संकल्पना है। स्वतः नियंत्रण में इसका अत्यधिक उपयोग होता है। पुनर्भरण मुख्यतः दो प्रकार का होता है- धनात्मक पुनर्भरण और ऋणात्मक पुनर्भरण।

पुनर्भरण का योजनामूलक चित्र
पुनर्भरण का इस प्रकार से भी दिखाते हैं
कन्ट्रोलर सहित एक इकाई पुनर्भरण प्रणाली
C : कन्ट्रोलर ; P : प्रक्रम (प्रॉसेस)
r : रिफरेन्स, e : त्रुटि (एरर),
u : प्रॉसेस इनपुट , y : प्रॉसेस आउटपुट

इन्हें भी देखेंसंपादित करें