पुरुषों का बलात्कार

पुरुष के विरूद्ध यौन हिंसा

बलात्कार या अन्य यौन हिंसा की घटनाओं के पीड़ितों का एक महत्वपूर्ण अनुपात पुरुषों का हैं। ऐतिहासिक रूप से, बलात्कार के बारे में ऐसा सोचा और इसे परिभाषित किया जाता था कि यह अपराध केवल महिलाओं के खिलाफ किया जाता है। यह धारणा अभी भी दुनिया के कुछ हिस्सों में बना हुआ है, लेकिन पुरुषों का बलात्कार अब आमतौर पर अपराध है और अतीत की तुलना में अधिक चर्चा का विषय रहा है।

पुरुषों का बलात्कार अभी भी एक वर्जना है, और विषमलैंगिक और समलैंगिक पुरुषों के बीच एक नकारात्मक अर्थ रखता है। समाज और सेवा प्रदाता अक्सर पुरुष पीड़ितों के यौन अभिविन्यास(झुकाव) और उनके अपराधियों के लिंग के आधार पर प्रतिक्रिया देते हैं। पुरुष पीड़ितों के लिए यौन उत्पीड़न की रिपोर्ट कराना मुश्किल हो सकता है, खासकर एक मजबूत मर्दाना प्रथा वाले समाज में। उन्हें डर हो सकता है कि लोग उनकी यौन अभिविन्यास(झुकाव) पर संदेह करेंगे और उन्हें समलैंगिक कहने लगेंगे, खासकर अगर एक पुरुष द्वारा बलात्कार किया गया हो, या उन्हें नामर्द के रूप में देखा जा सकता है क्योंकि वे पुरुष होते हुए भी शिकार हो गये। कई मामलों समलैंगिक होने की अनुभूति के पीछे बलात्कार एक मकसद होता है। ज्यादातर, पुरुष पीड़ित महिला पीड़ितों के समान, उनके शिकार को छिपाने और इनकार करने की कोशिश करते हैं, जब तक कि उन्हें गंभीर शारीरिक चोटें न हों। अंततः जब वे चिकित्सा या मानसिक स्वास्थ्य सेवाओं की मांग कर रहे होते हैं, तो उनकी चोटों को समझाने में पुरुष पीड़ित बहुत अस्पष्ट हो सकते हैं।


सन्दर्भसंपादित करें