प्रयाग नारायण त्रिपाठी तीसरा सप्तक के प्रमुख कवि हैं।

[[श्रेणी:]]