मुख्य मेनू खोलें

उस पदार्थ को प्रशीतक (refrigerant) कहते हैं जो ऊष्मा पम्प तथा प्रशीतन चक्र में प्रयुक्त होता है। प्रशीतक प्रायः तरल (द्रव या गैस) होता है। अधिकांश ऊष्मा चक्रों में प्रशीतक की भौतिक अवस्था बदली जाती है (द्रव से गैस तथा पुनः गैस से द्रव)। इस कार्य के लिये बहुत से पदार्थ उपयोग में लाये जाते रहे हैंम। २०वीं शताब्दी में फ्लोरोकार्बन (मुख्यतः क्लोरोफ्लोरोकार्बन) इस काम के लिये बहुत उपयोग में लाये गये। किन्तु अब इनका उपयोग क्रमशः कम किया जा रहा है क्योंकि इनके कारण ओजोन परत को नुकसान पहुँचता है। आम उपयोग के अन्य प्रशीतक ये हैं- अमोनिया, सल्फर डाई आक्साइड, तथा प्रोपेन आदि अहैलोजनीकृत हाइड्रोकार्बन

इन्हें भी देखेंसंपादित करें