प्राकृतिक और विधिक अधिकार

प्राकृतिक और विधिक अधिकार (अंग्रेज़ी: Natural and legal rights) अधिकारों के दो रूप हैं। विधिक अधिकार वे हैं जो किसी दत्त विधिक प्रणाली द्वारा किसी व्यक्ति को प्रदान किये जाते हैं (अर्थात्, वे अधिकार जो मानवीय नियमों द्वारा परिवर्तित, निरसित और निरुद्ध किये जा सकते)। प्राकृतिक अधिकार वे हैं जो किसी विशेष संस्कृति या सरकार के नियमों या रिवाजों पर निर्भर नहीं होते, अतः सार्वभौमिक और अविच्छेद्य होते हैं (अर्थात्, वे अधिकार जो मानवीय नियमों द्वारा निरसित या निरुद्ध नहीं कियें जा सकते)।[1]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "मानव अधिकार की अवधारणा व विकास" (PDF). Rajdhani College.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें