मुख्य मेनू खोलें

बिहार राज्य के वैशाली जिले में वैशाली के ऐतिहासिक भग्नावशेष के पास बसाढ गाँव में यह संस्थान स्थित है। जैन धर्म के २४ वें तीर्थंकर भगवान महावीर का जन्म वैशाली गणराज्य के प्रतिष्ठित ज्ञात्रिक कुल में हुआ था। उनके जन्म स्थल के निकट ही जैन अहिंसा एवं प्राकृत शिक्षा संस्थान की स्थापना १९५२ में हुई थी। यह संस्थान जैन धर्म के मौलिक सिद्धांत तथा प्राकृत साहित्य के ऊपर शोध कार्य करती है। संस्थान बिहार विश्वविद्यालय, मुजफ्फरपुर से संबद्ध है।