मुख्य मेनू खोलें

अमेरिका में फुल्टन नामक स्थान पर ब्रिटिश नेता विष्टन चर्चिल ने भाषण देते हुए कहा कि अब हम एक तानाशाही के स्थान पर दूसरे तानाशाही को स्थापित नहीं होने देगे।इसे रोकने के लिए सभी उपायो का सहारा लिया जाएगा।इस तरह यहां सर्वहारा को समाप्त करने की बात कही गयी। इस भाषण ने पूंजीवादी राष्ट्र एवं सोवियत संघ के मध्य अविश्वास का भाव उत्पन्न किया फलतः शीत युद्ध को प्रोत्साहन मिला।