फ्लिपकार्ट

भारतीय इलेक्ट्रॉनिक कॉमर्स कंपनी

फ्लिपकार्ट भारत की एक ई-कॉमर्स कम्पनी है। इसका मुख्यालय बंगलौर में स्थित है। इसकी स्थापना सन् 2007 में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान दिल्ली के स्नातक सचिन बंसल और बिनी बंसल द्वारा की गई थी। मूलतः पुस्तकों की ऑनलाइन खरीद-बिक्री लिए बनी यह वेबसाइट अब अपने ग्राहकों को इलेक्ट्रॉनिक उपकरण और अन्य वस्तुएं खरीदने का विकल्प भी देती है। फ्लिपकार्ट पर क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड, नेट बैंकिंग, ई-गिफ्ट वाउचर और सुपुर्दगी पर नकद अदायगी (कैश ऑन डिलीवरी) के ज़रिये भुगतान किया जा सकता है।

फ्लिपकार्ट
Flipkart india.png
प्रकार
ऑनलाइन शॉपिंग
उपलब्ध भाषाहिन्दी और अंग्रेजी
मालिकसचिन बंसल और बिन्नी बंसल
आयIncrease 5 बिलियन (US$73 मिलियन) (FY 2011–12)
नारादी ऑनलाइन मेगास्टोर
जालस्थलFlipkart.com
एलेक्सा रेंकIncrease 236 (November 2012 के अनुसार )[1]
व्यावसायिकहाँ
पंजीकरणज़रूरी
शुरू2007; 13 वर्ष पहले (2007)
वर्तमान स्थितिOnline

फ्लिपकार्ड ने अपने उत्पाद 'डिजिफ्लिप' (DigiFlip) नाम से बेचना शुरू किया है जिसमें कैमरा-बैग, पेन-ड्राइव,कम्प्यूटर तथा हेडफोन के सामान आदि हैं।

०९ मई २०१८ को अमेरिका की बहुराष्ट्रीय खुदरा कंपनी वॉलमार्ट ने फ्लिपकार्ट की 77 फीसदी हिस्सेदारी, 1.07 लाख करोड़ रूपये में खरीद कर उसका अधिग्रहण कर लिया है।[2] साउथ अफ्रीका की इंटरनेट और एंटरटेनमेंट कंपनी नैसपर्स ने भी फ्लिपकार्ट में अपनी कुल 11.18 फीसदी हिस्सेदारी को वॉलमार्ट को बेच दिया है। नैसपर्स ने यह सौदा 14,740 करोड़ रुपये में किया है।[3]

सन्दर्भ

  1. "Flipkart.com Site Info". Alexa Internet. मूल से 11 दिसंबर 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2 अगस्त 2012.
  2. क्रियांशु सारस्वत (२०१८). "भारत में हुई सबसे बड़ी ई-कॉमर्स डील, वॉलमार्ट ने 1 लाख करोड़ में फ्लिपकार्ट को खरीदा". जी न्यूज़. मूल से 11 मई 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि ९ मई २०१८.
  3. दुबे, राजीव (२०१८). "बिक गया Flipkart, वॉलमार्ट ने 1 लाख करोड़ रुपये में खरीदा". आज तक. मूल से 11 मई 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि ०९ मई २०१८. |accessdate= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)

इन्हें भी देखें

बाहरी कड़ियाँ