बम्लेश्वरी देवी मंदिर

बम्लेश्वरी देवी मंदिर (Bamleshwari Temple) या बम्बलेश्वरी देवी मंदिर (Bambleshwari Temple) भारत के छत्तीसगढ़ राज्य के राजनांदगाँव ज़िले के डोंगरगढ़ नगर में 490 मीटर (1,610 फीट) ऊँची पहाड़ी पर स्थित एक हिन्दू मन्दिर है। इसे कभी-कभी "बड़ी बम्लेश्वरी मंदिर" भी कहा जाता है क्योंकि इस परिसर से आधा किमी दूर नीचे एक अलग "छोटी बम्लेश्वरी मन्दिर" भी स्थित है। क्वार मास की नवरात्रि और चैत्र मास की नवरात्रि को यहाँ दर्शन के लिये भारी भीड़ एकत्र होती है। नौरात्रि में यहाँ 'ज्योतिकलश' प्रकाशित किया जाता है।[1][2][3]

बम्लेश्वरी मन्दिर
Bambleshwari Temple
Shrine bimbleswari.JPG
धर्म संबंधी जानकारी
सम्बद्धताहिंदू धर्म
त्यौहारनवरात्रि
अवस्थिति जानकारी
अवस्थितिडोंगरगढ़
ज़िलाराजनांदगाँव ज़िला
राज्यछत्तीसगढ़
देश भारत
बम्लेश्वरी देवी मंदिर is located in छत्तीसगढ़
बम्लेश्वरी देवी मंदिर
छत्तीसगढ़ में स्थिति
भौगोलिक निर्देशांक21°10′48″N 80°45′04″E / 21.180°N 80.751°E / 21.180; 80.751निर्देशांक: 21°10′48″N 80°45′04″E / 21.180°N 80.751°E / 21.180; 80.751

विवरणसंपादित करें

डोंगरगढं चारो ओर हरी-भरी पहाडियों, छोटे-बड़े तालाबों एवं पश्चिम में पनियाजोब जलाशय, उत्तर में ढारा जलाशय तथा दक्षिण में मडियान जलाशय से घिरा प्राकृतिक सुंदरता से परिपूर्ण स्थान है। कामाख्या नगरी व डुंगराज्य नगर नामक प्राचीन नामों से विख्यात डोंगरगढ में उपलब्ध खंडहरों एवं स्तंभों की रचना शैली के आधार पर शोधकर्ताओं ने इसे कलचुरी काल का एवं १२वीं-१३वीं सदी के लगभग का पाया है। किन्तु अन्य सामग्री जैसे -मूर्तियों के गहने, अनेक वस्त्रों, आभूषणों, मोटे होंठ एवं मस्तक के लंबे बालो की सूक्ष्म मीमांसा करने पर इस क्षेत्र की मूर्तिकला पर गोडकला का प्रभाव परिलक्षित हुआ है। इससे यह अनुमान लगाया जा सकता है कि १६ वीं शताब्दी तक डुंगराज्य नगर गोड राजाओं के आधिपत्य में रहा। गोड राजा पर्याप्त सामर्थ्यवान थे। जिससे राज्य मे शांति तथा व्यवस्था स्थापित थी। यहां की प्रजा भी सम्पन्न थी। जिसके कारण मूर्तिशिल्प तथा गृह निर्माण कला का उपयुक्त वातावरण था। लोकमतानुसार अब २२०० वर्ष पूर्व डोंगरगढ प्राचीन नाम कामाख्या नगरी में राजा वीरसेन का शासन था जो कि निःसंतान थे। पुत्र रत्न की कामना हेतु उसने महिषामती पुरी मे स्थित शिवजी और भगवती दुर्गा की उपासना की। जिसके फलस्वरूप रानी एक वर्ष पश्चात पुत्र रत्न की प्राप्ति हुई। ज्योतिषियों ने नामकरण मे पुत्र का नाम मदनसेन रखा। भगवान शिव एवं माँ दुर्गा की कृपा से राजा वीरसेन को पुत्र रत्न की प्राप्ति हुई। इसी भक्ति भाव से प्रेरित होकर कामाख्या नगरी मे माँ बम्लेश्वरी का मंदिर बनवाया गया। माँ बम्लेश्वरी को जगदम्बा जिसमें भगवान शिव अर्थात महेश्वर की शक्ति विद्यमान है, के रूप मे जाना जाने लगा। राजा मदनसेन एक प्रजा सेवक शासक थे। उनके पुत्र हुए राजा कामसेन जिनके नाम पर कामाख्या नगरी का नाम कामावती पुरी रखा गया। कामकन्दला और माधवनल की प्रेमकथा भी डोंगरगढ की प्रसिध्दी का महत्वपूर्ण अंग है। कामकन्दला, राजा कामसेन के राज दरबार मे नर्तकी थी। वही माधवनल निपुण संगीतग्य हुआ करता था।

एक बार राजा के दरबार मे कामकन्दला के नृत्य का आयोजन हुआ परन्तु ताल एवं सुर बिगडने से माधवनल ने कामकन्दला के पैर के एक पायल मे नग न होना व मृदंअग बजाने वाले का अंगुठा नकली अर्थात मोम का होना जैसी त्रुटि निकाली। इससे राजा कामसेन अत्यन्त प्रभावित हुए और उसने अपनी मोतियों माला उन्हे सौपकर माधवनल के सम्मान मे नृत्य करने को कहा। कामकन्दला के नृत्य से प्रभावित होकर माधवनल ने राजा कामसेन की दी हुई मोतियो की माला कामकन्दला को भेट कर दी। इससे राजा क्रोधित हो गया। उन्होने माधवनल को राज्य से निकाल दिया लेकिन माधवनल राज्य से बाहर न जाकर डोंगरगढ की पहाडियो की गुफा मे छिप गया। प्रसंगवश कामकन्दला व माधवनल के बीच प्रेम अंकुरित हो चुका था। कामलन्दला अपनी सहेली माधवी के साथ छिपकर माधवनल से मिलने जाया करती थी। दूसरी तरफ राजा कामसेन का पुत्र मदनादित्य पिता के स्वभाव के विपरीत नास्तिक व अय्याश प्रकृति का था। वह कामकन्दला को मन ही मन चाहता था और उसे पाना चाहता था। मदनादित्य के डर से कामकन्दला उससे प्रेम का नाटक करने लगी। एक दिन माधवनल रात्रि मे कामकन्दला से मिलने उसके घर पर था कि उसी वक्त मदनादित्य अपने सिपाहियो के साथ कामकन्दला से मिलने चला गया। यह देख माधवनल पीछे के रास्ते से गुफा की ओर निकल गया। घर के अंदर आवाज़ेंआने की बात पूछ्ने पर कामकन्दला ने दीवारों से अकेले मे बात करने की बात कही। इससे मदनादित्य संतुष्ट नही हुआ और अपने सिपाहियों से घर पर नजर रखने को कहकर महल की ओर चला गया। एक रात्रि पहाड़ियों से वीणा की आवाज सुन व कामकन्दला को पहाड़ी की तरफ जाते देख मदनादित्य रास्ते में बैठकर उसकी प्रतीक्षा करने लगा परन्तु कामकन्दला दूसरे रास्ते से अपने घर लौट गई। मदनादित्य ने शक होने पर कामकन्दला को उसके घर पर नजरबंद कर दिया। इस पर कामकन्दला और माधवनल माधवी के माध्यम से पत्र व्यवहार करने लगे किन्तु मदनादित्य ने माधवी को एक रोज पत्र ले जाते पकड़ लिया। डर व धन के प्रलोभन से माधवी ने सारा सच उगल दिया। मदनादित्य ने कामकन्दला को राजद्रोह के आरोप मे बंदी बनाया और माधवनल को पकड़ने सिपाहियों को भेजा। सिपाहियों को आते देख माधवनल पहाड़ी से निकल भागा और उज्जैन जा पहुँचा। उस समय उज्जैन मे राजा विक्रमादित्य का शासन था जो बहुत ही प्रतापी और दयावान राजा थे। माधवनल की करूण कथा सुन उन्होने माधवनल की सहायता करने की सोच अपनी सेना कामाख्या नगरी पर आक्रमण कर दिया। कई दिनो के घनघोर युध्द के बाद विक्रमादित्य विजयी हुए एवं मदनादित्य, माधवनल के हाथो मारा गया। घनघोर युध्द से वैभवशाली कामाख्या नगरी पूर्णतः ध्वस्त हो गई। चारो ओर शेष डोंगर ही बचे रहे तथा इस प्रकार डुंगराज्य नगर पृष्टभुमि तैयार हुई। युध्द के पश्चात विक्रमादित्य द्वारा कामकन्दला एवं माधवनल की प्रेम परीक्षा लेने हेतु जब यह मिथ्या सूचना फैलाई गई कि युध्द मे माधवनल वीरगति को प्राप्त हुआ तो कामकन्दला ने ताल मे कूदकर प्राणोत्सर्ग कर दिया। वह तालाब आज भी कामकन्दला के नाम से विख्यात है। उधर कामकन्दला के आत्मोत्सर्ग से माधवनल ने भी अपने प्राण त्याग दिये। अपना प्रयोजन सिध्द होते ना देख राजा विक्रमादित्य ने माँ बम्लेश्वरी देवी (बगुलामुखी) की आराधना की और अतंतः प्राणोत्सर्ग करने को तत्पर हो गये। तब देवी ने प्रकट होकर अपने भक्त को आत्मघात से रोका। तत्पश्चात विक्रमादित्य ने माधवनल कामकन्दला के जीवन के साथ यह वरदान भी मांगा कि माँ बगुलामुखी अपने जागृत रूप मे पहाडी मे प्रतिष्टित हो। तबसे माँ बगुलामुखी अपभ्रंश बमलाई देवी साक्षात महाकाली रूप मे डोंगरगढ मे प्रतिष्ठित है। सन १९६४ मे खैरागढ रियासत के भुतपूर्व नरेश श्री राजा बहादुर, वीरेन्द्र बहादुर सिंह द्वारा मंदिर के संचालन का भार माँ बम्लेश्वरी ट्रस्ट कमेटी को सौंपा गया था। डोंगरगढ के पहाड मे स्थित माँ बम्लेश्वरी के मंदिर को छत्तीसगढ का समस्त जनसमुदाय तीर्थ मानता है। यहां पहाडी पर स्थित मंदिर पर जाने के लिये सीढीयों के अलावा रोपवे की सुविधा भी है। यहां यात्रियो की सुविधा हेतु पहाडो के ऊपर पेयजल की व्यवस्था, विध्दुत प्रकाश, विश्रामालयों के अलावा भोजनालय व धार्मिक सामग्री खरीदने की सुविधा है। डोंगरगढ रायपुर से १०० किमी की दूरी पर स्थित है। तथा मुंबई-हावडा रेल्वे के अन्तर्गत भी आता है। यह छत्तीसगढ का अमुल्य धरोहर है।

चित्रदीर्घासंपादित करें

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें

  1. "Maa Bamleshwari Devi Temple Dongargarh - Ropeway Ride". The Backpack Diaries. 2018-04-14.
  2. "Inde du Nord - Madhya Pradesh et Chhattisgarh Archived 2019-07-03 at the Wayback Machine," Lonely Planet, 2016, ISBN 9782816159172
  3. "Pratiyogita Darpan Archived 2019-07-02 at the Wayback Machine," July 2007