कम्प्यूटर या संगडक विज्ञान में, बाइनरी ट्री एक ट्री डाटा स्ट्रक़चर है। इस ट्री की मुख्य विशेषता यह है की, इसमें प्रत्येक नोड के अधिकतम दो और निम्नतम शून्य चिल्ड्रेन होते हैं।

उदाहरण - बाइनरी ट्री

बाइनरी ट्री एक जड़ आधारित (rooted tree) ट्री है। इसमें प्रत्येक नोड की अधिकतम बाहय शाखा दो होती है। इन चिल्ड्रेन को लेफ्ट और राइट चाइल्ड के नाम से जानते हैं। जिन नोड के चाइल्ड नोड होते है, उन्हें पेरेंट नोड कहते हैं।

बाइनरी ट्री को निर्देशित (directed) एवं अनिर्दिष्ट (undirected) दोनों तरीकों से प्रदर्शित कर सकते हैं। यदि छैतिज (horizon) तरीके से ट्री को प्रदर्शित कर रहें है तो इसे निर्देशित (directed) ट्री से प्रदर्शित करते हैं। और यदि बाइनरी ट्री को उर्ध्वाधर (vertical) प्रदर्शित का रहें है, तो इसे अनिर्दिष्ट (undirected) ट्री से प्रदर्शित करेंगे।


सन्दर्भसंपादित करें