पुष्प के सबसे बाहरी चक्र को बाह्यदलपुंज कहा जाता है। यह पुष्प का सबसे नीचे एवं बाहर का भाग है। इसमें पत्तियों के समान हरे रंग के कई बाह्य दल या अंखुड़ी पाए जाते हैं। जिस समय फूल कली की अवस्था में रहता है, बाह्य दल उसे ढँककर रखता है तथा उसकी रक्षा करती है।

एक फूल जिसमें हरे रंग के बाह्यदलपुंज तथा पीले रंग के दलपुंज को स्पष्ट देखा जा सकता है।

सन्दर्भसंपादित करें

इन्हें भी देखेंसंपादित करें