बिजूका एक मानवरूपी पुतला है, जिसे दुनिया भर में किसानों द्वारा उनके खेतों में लगाया जाता है ताकि पक्षियों को रोपे हुए बीजों और अंकुरों को खाने से रोका जा सके। मानव आकार के बिजूका को आमतौर पर पुराने कपड़े पहनाये जाते हैं और खुले मैदानों में रखा जाता है।

जापान में धान के खेतों में लगा एक बिजूका

बिजूका की संरचना आमतौर पर घास, पुआल या इसी प्रकार की अन्य कई सामग्रियों से तैयार किया गया जाता है, जिसे खेतों में किसान लकड़ी के खम्बों के सहारे खड़ा करते हैं। इस संरचना को आमतौर पर मानव शरीर की तरह आकार दिया जाता है। कई बार टोपी भी पहनाई जाती है, असली लगे इसलिए इसके हाथ में बोटल भी रखी जाती है , चूंकि बिजूका मनुष्यों की तरह दिखाता है, इसलिए डर कर पक्षी और भटकते जानवर खेतों से दूर रहते हैं और फसल नुकसान से बच जाती है। बिजूका के आकार और बनावट में समय-समय पर परिवर्तन किए जा सकते हैं।

सन्दर्भसंपादित करें