बीजीय ज्यामिति (Algebraic geometry), गणित की एक शाखा है जो परम्परागत रूप से बहुचरीय बहुपदों के मूल (शून्य) का अध्ययन करती रही है। आधुनिक बीजीय ज्यामिति, अमूर्त बीजगणित की तकनीकों के उपयोग पर आधारित है। इसमें बीजीय समीकरणों की सहायता से आरेखों और चित्रों के गुणधर्मों का विवेचन किया जाता है।

सन्दर्भसंपादित करें

इन्हें भी देखेंसंपादित करें