ब्रह्मगुप्त मैट्रिक्स

ब्रह्मगुप्थ के बहुआयामी पद्

गणित में निम्नलिखित मैट्रिक्स को ब्रह्मगुप्त मैट्रिक्स कहते हैं। यह भारत के महान गणितज्ञ ब्रह्मगुप्त द्वारा प्रतिपादित की गयी थी।[1]

यह मैट्रिक्स निम्नलिखित समीकरण को संतुष्ट करती है-

इस मैट्रिक्स के पूर्णांक घात के गुण

और को ब्रह्मगुप्त बहुपद (Brahmagupta polynomial) कहते हैं। ब्रह्मगुप्त मैट्रिक्स का विस्तार को ऋणात्मक घातांकों के लिये भी किया जा सकता है-

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "The Brahmagupta polynomials" (PDF). Suryanarayanan. The Fibonacci Quarterly. मूल से 28 अगस्त 2011 को पुरालेखित (PDF). अभिगमन तिथि 3 November 2011.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें