सन् १९४७ में स्वतंत्रता मिलने पर भी भारत में यांत्रीकरण की दर बहुत कम थी। आज भारत में ट्रैक्टर बनाने वाली अनेकों कम्पनियाँ हैं तथा कृषि में ट्रैक्टर का भरपूर उपयोग हो रहा है।

१९४५ - १९६० का दशकसंपादित करें

१९४० के दशक के मध्य में युद्ध से बचे हुए ट्रैक्टरों को आयातित किया गया।