स्वतन्त्रता के पश्चात से ही भारत सरकार ने बहुत से उद्योगों और उत्पादों को राजसहायता (सबसीडी) दी है। उदाहरण के लिए, ईंधन पर राजसहायता, खाद्य पदार्थों पर, रेल टिकट पर, उर्वरक पर आदि।

सन्दर्भसंपादित करें

इन्हें भी देखेंसंपादित करें