भूड़ एक प्रकार की कृषि योग्य जमीन (कृष्य भूमि) का ही नाम है। इस प्रकार की जमीन में बालू का अंश अधिक होता है। इस कारण इसे उपजाऊ बनाने के लिये पानी या सिंचाई करने की अधिक आवश्यकता होती है। खाद और पानी की उचित व पर्याप्त मात्रा मिलती रहे तो इस प्रकार की कृष्य भूमि में रबी, खरीफ और जायद; तीन-तीन फसलें एक ही साल में सफलतापूर्वक उगायी जा सकती हैं।

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें