भूवैज्ञानिक काल (geological age) पृथ्वी के प्राकृतिक भूवैज्ञानिक इतिहास का एक भाग होता है। भूवैज्ञानिकों ने इस इतिहास को चार इओनों में विभाजित करा है, जो सभी आधे अरब वर्ष या उस से अधिक लम्बे हैं। यह इओन स्वयं महाकल्पों में विभाजित हैं, जो आगे कल्पों में बंटे हुए हैं।[1] यह कल्प स्वयं युगों में बंटे हैं, जो आगे कालों में बंटे हैं।[2]

परिभाषिकीसंपादित करें

  • भूवैज्ञानिक समय के सबसे बड़े खंडों को इओन (eon) कहते हैं।
  • इओन को आगे महाकल्प (era) में विभाजित करा जाता है।
  • महाकल्प को कल्प (period) में विभाजित करा जाता है।
  • कल्प को युग (epoch) में विभाजित करा जाता है।
  • युग को काल (age) में विभाजित करा जाता है।

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "मेघालय का दौर". मूल से 20 जुलाई 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 3 सितंबर 2018.
  2. Cohen, K.M.; Finney, S.; Gibbard, P.L. (2015), International Chronostratigraphic Chart Archived 2015-04-11 at WebCite (PDF), International Commission on Stratigraphy.