बौद्ध धर्म के महायान सम्प्रदाय में भैषज्यगुरु रोगों से मुक्ति देने वाले बुद्ध हैं। भैषज्यगुरु वह वैद्य हैं जो अपने उपदेशों के द्वारा दुखों का नाश करते हैं।

भैषज्यगुरु

"Paradise of Bhaisajyaguru" Buddha wall mural in the Met museum.JPG

युआन राजवंश के समय में निर्मित एक भित्तिचित्र जिसमें भैषज्यगुरु के पूर्वी शुद्ध देश का चित्रण है।
चीनी नाम
पारम्परिक चीनी: 藥師佛
सरलीकृत चीनी: 药师佛
तथागत
परंपरागत चीनी: 藥師如來
[[[:w:Simplified Chinese character|सरलीकृत चीनी]]: 药师如来
जापानी नाम
Kanji: 薬師, 薬師如来
कोरियाई नाम
हांगुल: 약사불, 약사여래
मंगोलियाई नाम
मंगोलियाई: Оточ Манла
तमिल नाम
तमिल: பைசையகுரு
थाई नाम
थाई: พระไภษัชยคุรุไวฑูรยประภาตถาคต
तिब्बती भाषा
तिब्बती: སངས་རྒྱས་སྨན་བླ།
वियतनामी नाम
Quốc ngữ: Phật Dược Sư, Dược Sư Lưu Li Quang Phật
भैषज्यगुरु

धारणी और मन्त्रसंपादित करें

नमो भगवते भैषज्यगुरु वैडूर्यप्रभराजाय
तथागताय अर्हते सम्यक्संबुद्धाय तद्यथा
ॐ भैषज्ये भैषज्ये भैषज्य-समुद्गते स्वाहा
तद्यथा ॐ भैषज्ये भैषज्ये भैषज्य-समुद्गते स्वाहा

बारह प्रतिज्ञाएँसंपादित करें

  • (१) तेन खलु पुनर्भिक्षवः समयेन इदं बुद्धक्षेत्रमपगतपापं भविष्यति अपगतमातृग्रामं च। सर्वे च ते सत्त्वा औपपादुका भविष्यन्ति ब्रह्मचारिणो मनोमयैरात्मभावैः स्वयंप्रभा ऋद्धिमन्तो वैहायसंगमा वीर्यवन्तः स्मृतिमन्तः प्रज्ञावन्तः सुवर्णवर्णैः समुच्छ्रयैर्द्वात्रिंशद्भिर्महापुरुषलक्षणैः समलंकृतविग्रहाः।

इन्हें भी देखेंसंपादित करें