भ्रमरगीत सार आचार्य रामचन्द्र शुक्ल द्वारा सम्पादित महाकवि सूरदास के पदों का संग्रह है। उन्होने सूरसागर के भ्रमरगीत से लगभग 400 पदों को छांटकर उनको 'भ्रमरगीत सार' के रूप में प्रकाशित कराया था।

पद अनुक्रमसंपादित करें

इस पुस्तक में संग्रहित पद क्रमानुसार निम्नलिकित हैं:

सन्दर्भसंपादित करें

"भ्रमरगीतसार" संपादक आचार्य रामचंद्रशुक्ल, उप संपादक विश्वनाथ प्रसाद मिश्र (नागरी प्रचारिणी ग्रंथमाला-83,वाराणसी नई दिल्ली कविशिरोमणि महात्मा सूरदासकृत)

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

अन्य विकि परियोजनाओं मेंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें