किसी व्यक्ति द्वारा कुछ काम करने के बदले, काम कराने वाला व्यक्ति उसे जो कुछ (रुपया-पैसा, अनाज, या श्रम) देता है उसे मजदूरी या मजूरी कहते हैं। मजदूरी की गणना प्रति दिन, प्रति घण्टा, या प्रति काम के अनुसार की जाती है (जैसा पहले से तय होता है।)।

परिभषासंपादित करें

  • (१) श्रम की सेवा के लिए दिया गया मूल्य (कीमत) मजदूरी है। (मार्शल)
  • (२) श्रम का वेतन मजदूरी है। (सेलिगमैन)

प्रकारसंपादित करें

  • नकद मजदूरी-नकद मजदूरी वह मजदुरी होती है जो श्रमिक को एक निश्चित समय मे कार्य करने के लिए दी जाती है।एक मजदूर नकद मजदूरी इसलिए स्वीकार करता है कि वह उसके माद्यम से अपनी विभिन्न आवस्यकता की पूर्ति कर सकता है।
  • असल मजदूरी (वास्तविक मजदूरी (नकद + कुछ सुविधाएँ)-एक मजदूर अपनी नकद मजदूरी में जो वस्तुए एवं सेवाये खरीद सकता है उसे वास्तवीक मजदूरी(Real wages)कहा जाता है। इसमें नकद मजदूरी के साथ साथ अन्य सुविधाएं भी वास्तविक मजदूरी में शामिल किए जाते है जो मजदूर को मिलते है। उदाहरण(मुफ्त मकान,मुफ्त चिकित्सा,मुफ्त शिक्षा आदि)

इन्हें भी देखेंसंपादित करें