मधुबनी प्रखण्ड (पश्चिमी चंपारण)

पश्चिमी चंपारण, बिहार का एक प्रखण्ड। बगहा अनुमंडल अंतर्गत सदानीरा गंडक नदी के तट पर अवस्थित 4 प्रखंडों हैं 1.मधुबनी 2. पिपरासी 3. भीतहा 4. ठकराहा । ये चारों प्रखंड जिला मुख्यालय बेतिया से करीब 60 से 70 किमी की दूरी पर हैं वहीं अनुमंडलीय कार्यालय भी 40 से 50 किमी दूर है। पिछले 4 वर्षों से धनहा पुल बन जाने से आवागमन की सुविधा हुई है जिससे अनुमंडल और जिला मुख्यालय से बस सुविधा द्वारा सीधा जुड़ाव हुआ है । वर्ना गोपालगंज से यू पी पड़रौना होकर जिला मुख्यालय से इन प्रखंडों का जुड़ाव हो पाता था।


इसमे अनेक प्रकार के शहर है।

मधुबनी प्रखंड में बांसी धाम प्राचीन बांसी नदी के किनारे अवस्थित है। यहां का मेला बहुत प्रसिद्ध है जो कार्तिक मास के पूर्णिमा को आरंभ होता है । इसके बारे में मान्यता है कि यहां स्नान करने से पापों से मुक्ति मिलती है। धनहा पुल पर मछली चावल बहुत प्रसिद्ध है। गंडक नदी किनारे अवस्थित मधुबनी प्रखंड का प्रखंड मुख्यालय बांसी दहवा में है । यहां का आंचल मुख्यालय बांसी दहवा से उत्तर 10 किमी मधुबनी में है । यह प्रखंड त्रिभुजाकार क्षेत्र में फैला है । यहां से उत्तरप्रदेश का जिला कुशीनगर का मुख्यालय करीब 14 किमी है । मधुबनी सहित चारों प्रखंडों से करीबी नगर होने के कारण यहां के निवासी शिक्षा , चिकित्सा, बाजार इत्यादि के लिए पडरौना पर अवलंबित है। यहां के लोग बहुत गरीब हैं और खेती उनका मुख्य पेशा है । मधुबनी प्रखंड के 10 पंचायतों में से दो पंचायत सिसयी और चिउरही गंडक नदी के दूसरे किनारे पर है और बाढ़ से पीड़ित रहने के कारण दोनों पंचायतों में मात्र 4-4 वार्ड में ही निवासी हैं बाकी बेचिरागी हैं। विधायक रिंकू सिंह उर्फ धीरेन्द्र प्रताप सिंह हैं जिसका विधानसभा सं 1 वाल्मीकि नगर है और सांसद का पद मा सांसद वैधनाथ महतो जी के निधन के बाद रिक्त हैं और कोरोना संकट के कारण उप चुनाव नहीं हो पाया है।