मनीष सिसोदिया

भारतीय राजनेता

मनीष सिसोदिया (जन्म : ५ जनवरी १९७२) एक भारतीय राजनीतिज्ञ तथा वर्तमान दिल्ली सरकार में मंत्री एवं उप मुख्यमंत्री हैं ।[1] उनके पास शिक्षा, उच्च शिक्षा, जन निर्माण विभाग (पी डब्ल्यू डी), शहरी विकास, स्थानीय निकाय, भूमि एवं भवन तथा रेवेन्यू विभाग हैं।[2]वे दिल्ली विधानसभा की पटपड़गंज सीट से विधायक हैं। वे आम आदमी पार्टी के राजनेता हैं।

मनीष सिसोदिया
ManishSisodia.jpg

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री
पदस्थ
कार्यालय ग्रहण 
14 फरवरी 2015
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल

पटपड़गंज से
Assembly Member
पद बहाल
8 दिसम्बर 2013 – पदस्थ
पूर्वा धिकारी अनिल कुमार चौधरी

जन्म 5 जनवरी 1972 (1972-01-05) (आयु 50)
हापुड़, उत्तर प्रदेश
राष्ट्रीयता भारतीय
राजनीतिक दल आम आदमी पार्टी
व्यवसाय राजनीतिज्ञ
संविभाग शिक्षा, लोक निर्माण विभाग, शहरी विकास, स्थानीय निकाय और भूमि और भवन के कैबिनेट मंत्री

करियरसंपादित करें

मनीष सिसोदिया एक सामाजिक कार्यकर्ता रहे हैं। सामाजिक कार्य करने से पहले वह एक निजी समाचार कम्पनी जी न्यूज में कार्यरत थे।[3]
वह कबीर और परिवर्तन नामक सामाजिक संस्था का संचालन करते हैं। वे सक्रिय आरटीआई (सूचना का अधिकार अधिनियम) कार्यकर्ता भी हैं। वे 'कबीर' नामक गैर-सरकारी संस्था चलाते हैं तथा अरविन्द केजरीवाल के साथ 'सार्वजनिक हित अनुसन्धान फाउण्डेशन' (Public Cause Research Foundation) नामक गैर सरकारी संगठन के सह-संस्थापक भी हैं। वे 'अपना पन्ना' नामक हिन्दी मासिक पत्र के सम्पादक हैं। वे अन्ना हजारे की भ्रष्टाचार विरोधी आन्दोलन के प्रमुख सदस्य रहे। किन्तु बाद में जब अरविंद केजरीवाल ने आन्दोलन छोड़ राजनीति में आने का निश्चय किया तो मनीष ने उनका साथ दिया।

राजनीति में पदार्पणसंपादित करें

मनीष सिसोदिया २६ नवम्बर २०१२ को स्थापित आम आदमी पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य हैं। उन्हें पार्टी ने २०१३ के दिल्ली विधान सभा चुनाव के लिए पटपड़गंज विधान सभा क्षेत्र का उम्मीदवार बनाया।[4][5] इस चुनाव में वे विजयी रहे।

आरोप[6]संपादित करें

शराब घोटाले में CBI ने शनिवार, 20 अगस्त 2022 को मनीष सिसोदिया के घर समेत दूसरे ठिकानों पर छापेमारी की है। CBI ने कुल मिलाकर 7 राज्यों में 21 ठिकानों पर छापेमारी की है। उनपर आरोप है कि उन्होने शराब कानून में बदलाव करके ठेकेदारों को फायदा पहुँचाया है। 14 घंटे से अधिक समय तक सीबीआई की टीम ने मनीष सिसोदिया के घर पर जांच की। देर रात को सीबीआई की टीम वापस लौटी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबित सीबीआई के हाथों कई दस्तावेज हाथ लगें हैं। बैंक खातों से जुड़े दस्तावेज भी लगे हैं। बताया ये भी जा रहा है कि सिसोदिया के ईमेल का डाटा भी टीम ने लिया है। सीबीआई फोन और अन्य इलैक्ट्रॉनिक गैजेट जब्त करके ले गई है। एक अधिकारी ने बताया कि कथित आबकारी घोटाले में सीबीआई ने अपनी एफआईआर में दिल्ली के उपमुख्यमंत्री सीएम मनीष सिसोदिया सहित 15 आरोपियों के नाम शामिल किए हैं।

शिक्षा के क्षेत्र में कार्यसंपादित करें

मनीष सिसोदिया ने दिल्ली के शिक्षा मंत्री के रूप में दिल्ली के सरकारी विद्यालयों की शिक्षा व्यवस्था में कुछ सुधार किया है।

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "Manish Sisodia CBI Raids: क्या दिल्ली के डिप्टी CM मनीष सिसोदिया जाएँगे जेल?". Shrima News. मूल से 20 अगस्त 2022 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 20 अगस्त 2022.
  2. "Arvind Kejriwal assigns portfolios, retains power and finance". Economic times. 28 दिसम्बर 2013. मूल से 29 दिसंबर 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 28 दिसम्बर 2013.
  3. Namasivayam, Satheesh; Bandhakavi, Sivaram (2012). Leadership Anna Hazare way, Leading without license. Rupa Publisher. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81=291-2146-2 |isbn= के मान की जाँच करें: invalid character (मदद). मूल से 14 दिसंबर 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 18 सितंबर 2013.
  4. "National Executive". Aam Aadmi Party. मूल से 6 अगस्त 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 19 जुलाई 2013.
  5. Age Correspondent (१६ जून २०१३). "AAP finalises 11 candidates". नई दिल्ली: The Asian Age. मूल से 12 दिसंबर 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि सितंबर 16 2013. |accessdate= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  6. "Manish Sisodia CBI Raids: क्या दिल्ली के डिप्टी CM मनीष सिसोदिया जाएँगे जेल?". Shrima News. मूल से 20 अगस्त 2022 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 20 अगस्त 2022.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें