महमूद काश्गरी (उईग़ुर: مەھمۇد قەشقىرى‎, अंग्रेज़ी: Mahmud al-Kashgari) ११वीं सदी ईसवी के काल में तुर्की भाषाओँ के एक विद्वान और कोशकर्मी (शब्दकोष निर्माता) थे। वे मध्य एशिया के काश्गर शहर के निवासी थे। उन्होंने १०७४ ईसवी में तुर्की भाषाओँ का पहला सम्पूर्ण शब्दकोश तैयार किया, जिसका नाम 'दीवान-उ-लुग़ात​-उत-तुर्क' था।[1] यह उन्होंने बग़दाद के अरब ख़लीफ़ाओं के लिए बनाया जो तुर्की लोगों के नए सहयोगी बन गए थे। इसमें कई शैलियों की पुरानी तुर्की रुबाईयाँ लिखी हुई हैं और तुर्क लोगों के निवास क्षेत्रों का सबसे पहला ज्ञात नक़्शा भी है। यह नक़्शा इस्तानबुल में तुर्की के राष्ट्रीय संग्रहालय में रखा हुआ है।

Maḥmūd al-Kāšġarī, Wax.jpg

पारिवारिक जीवनसंपादित करें

महमूद काश्गरी का जन्म सन् १००५ में काश्गर में हुआ था। उनके पिता हुसैन इसिक कुल (झील) के किनारे स्थित बार्सगान शहर के महापौर थे जिनका काराख़ानी ख़ानत के राजवंश से पारिवारिक सम्बन्ध था। कुछ इतिहासकार मानते हैं कि उनकी माता, बीबी राबिया अल-बसरी, अरब परिवार से थीं। माना जाता है कि महमूद काश्गरी की मृत्यु ११०२ में ९७ की आयु में काश्गर से दक्षिण-पश्चिम में स्थित छोटे से उपाल शहर में हुई।

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Decline of Muslim States and Societies, Misbah Islam, pp. 274, Xlibris Corporation, 2008, ISBN 978-1-4363-1012-3, ... 1074: Language: Dictionary: Turkish: Mahmud Kashghari wrote Divan Lughat al Turk ...