महाड़ का सत्याग्रह (अन्य नाम: चवदार तालाब सत्याग्रहमहाड का मुक्तिसंग्राम) भीमराव आंबेडकर की अगुवाई में 20 मार्च 1927 को महाराष्ट्र राज्य के रायगढ़ जिले के महाड स्थान पर दलितों को सार्वजनिक चवदार तालाब से पानी पीने और इस्तेमाल करने का अधिकार दिलाने के लिए किया गया एक प्रभावी सत्याग्रह था।[1] इस दिन को भारत में सामाजिक सशक्तिकरण दिवस के रूप में मनाया जाता है।[1] इस सत्याग्रह में हजारों की संख्या में दलित लोग एवं सवर्ण लोग भी सम्मिलित हुए थे, सभी लोग महाड के चवदार तालाब पहुँचे और आंबेडकर ने प्रथम अपने दोनों हाथों से उस तालाब में पानी पिया, फिर हजारों सत्याग्रहियों ने उनका अनुकरण किया। यह आंबेडकर का पहला सत्याग्रह था।

कांस्य मूर्ति में आंबेडकर द्वारा महाड आंदोलन का चित्रण
Flyer published before Mahad Satyagraha in 1927

सवर्णवादीयो द्वारा अछूतों को तालाब का पानी पाने के अधिकार से नकारा गया था, जबकि सवर्णवादी दलितों को हिंदू धर्म का हिस्सा मानते थे। सभी हिंदू जाति समूहों एवं अन्य धर्म के लोग मुस्लिम, ईसाई तक भी उस ताबाल का पानी पी सकते थे। ऐसी असमानता के विरोध में आंबेडकर ने क्रान्ति की पहली शुरूवात की।

पृष्ठभूमिसंपादित करें

हिन्दू जाति प्रथा में दलितों (जिन लोगो को दबाया गया हो समाजिक, राजनैतिक, आर्थिक और शैक्षिक रूप से) को समाज से पृथक करके रखा जाता था। उन लोगों को सार्वजनिक नदी, तालाब और सड़कें इस्तेमाल करने की मनाही थी। अगस्त 1923 को बॉम्बे लेजिस्लेटिव कौंसिल के द्वारा एक प्रस्ताव लाया गया, कि वो सभी जगह जिनका निर्माण और देखरेख सरकार करती है, ऐसी जगहों का इस्तमाल हर कोई कर सकता है।[2] जनवरी 1924 में, महाड जोकि बॉम्बे कार्यक्षेत्र का हिस्सा था। उस अधिनियम को नगर निगम परिषद के द्वारा लागु किया गया। लेकिन सवर्णवादीयो के विरोध के कारण इसे अमल में नहीं लाया जा सका।

1927 में अंबेडकर ने सार्वजनिक स्थानों पर पानी का इस्तेमाल करने के अपने अधिकारों पर जोर देने के लिए सत्याग्रह (अहिंसक प्रतिरोध) शुरू करने का फैसला किया। कोंकण के एक शहर महाड को इस आयोजन के लिए चुना गया था । सवर्ण समाज के ए वी चित्रे, समाज सेवा लीग के चितपवन ब्राह्मण जी.एन.सहस्रबुद्धे और मद्ठ नगर पालिका के अध्यक्ष रहे सुरेंद्रनाथ टिपनिस। [3] महाड नगर पालिका के अध्यक्ष सुरेंद्रनाथ टिपनिस इन सभी ने अपने सार्वजनिक स्थलों को अछूतों के लिए खुला घोषित किया और अंबेडकर को १९२७ में मड़ई में एक बैठक आयोजित करने के लिए आमंत्रित किया । बैठक के बाद वे 'चवदार टैंक' के लिए रवाना हो गए। [5] अंबेडकर ने टैंक से पानी पिया और हजारों अछूत ों ने उनका पीछा किया । [5] [4] अंबेडकर ने सत्याग्रह के दौरान दलित महिलाओं को संबोधित करते हुए बयान भी दिया। उन्होंने उन सभी पुराने रीति-रिवाजों को छोड़ने को कहा जो छुआछूत के पहचानने योग्य मार्कर प्रदान करते हैं और उन्हें उच्च जाति की महिलाओं की तरह साड़ियां पहनने के लिए कहा । महाड में अंबेडकर के भाषण के तुरंत बाद दलित महिलाओं ने आसानी से अपनी साड़ियों को उच्च जाति की महिलाओं की तरह कपड़ा खाने का फैसला किया । लक्ष्मीबाई टिपनिस और इंदिराबिया चिटरे नाम की ऊंची जाति की ब्राह्मण महिलाओं ने दलित महिलाओं के पैरों को अपनी एड़ियों तक कवर करके ' ऊंची जाति की महिलाओं ' की पोशाक में मदद की । [6] अंबेडकर और उनके अनुयायी शहर के एक हिंदू मंदिर में प्रवेश करने की योजना बना रहे थे। और सवर्णवादीयो का तर्क था कि अछूतों ने उससे पानी लेकर टैंक को प्रदूषित किया। टैंक को शुद्ध करने के लिए गोमूत्र और गोबर का इस्तेमाल किया गया। इन उत्पादों के मिश्रण वाले 108 बर्तनों को टैंक में खाली कर दिया गया । इसके बाद टैंक को सवर्णवादी उपभोग के लिए उपयुक्त घोषित किया गया । [2] अंबेडकर ने 26-27 दिसंबर 1927 को मड़ई में दूसरा सम्मेलन आयोजित करने का निर्णय लिया। लेकिन जाति के सवर्णवादीयो ने उनके खिलाफ एक निजी संपत्ति के रूप में उस टैंक के खिलाफ मामला दायर किया । [7] वह अपना सत्याग्रह जारी नहीं रख पा रहा था क्योंकि मामला न्यायालय में विचाराधीन था । 25 दिसंबर (मनुस्मृति दहन दीन) को अंबेडकर के मार्गदर्शन में शास्त्राभिषेक, विधि मनुस्मृती को विरोध स्वरूप जलाया। दिसंबर 1937 में बॉम्बे हाईकोर्ट ने फैसला सुनाया कि अछूतों को टैंक से पानी का इस्तेमाल करने का अधिकार है। [8] [9] दलित द्वारा पानी तक पहुंचने की जद्दोजहद अब भी जारी है। पानी तक पहुंच अभी भी कई स्थानों पर दलितों को मना किया जाता है और अगर वे वर्जित स्थानों से पानी पीने की कोशिश करते हैं तो उन्हें कई बार पीटा जाता है या मार दिया जाता है । [10] [11] 19 मार्च 1940 को डॉ अंबेडकर ने 14वें महागिर सत्याग्रह दिवस को सशक्तिकरण दिवस के रूप में याद करने के लिए महाद में रैली और जनसम्मेलन की व्यवस्था की। इस दिन महाअधिकर नगर निगम के अध्यक्ष के रूप में अभिभाषक विष्णु नरहरि खोडके ने एक समारोह का आयोजन किया और डॉ अंबेडकर को उनके "चवदार कथा सत्याग्रह" और "मनुस्मृति दहन" और महामनुति दहन और अन्य आंदोलनों के लिए सम्मान पत्र (सम्मान पत्र) से सम्मानित किया । [12]

इन्हें भी देखिएसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Press Information Bureau (20 March 2003). March 20 observed as social empowerment day to commemorate Mahad Satyagrah by Dr. Ambedkar. प्रेस रिलीज़. http://pib.nic.in/archieve/lreleng/lyr2003/rmar2003/20032003/r200320038.html. अभिगमन तिथि: 31 March 2014. 
  2. Sangharakshita (1 January 2006). Ambedkar and Buddhism. Motilal Banarsidass Publishe. पपृ॰ 53–55. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-208-3023-3.

साँचा:भीमराव आम्बेडकर