मुख्य मेनू खोलें

महात्मा गाँधी केन्द्रीय विश्वविद्यालय

बिहार में स्थित केन्द्रीय विश्वविद्यालय

महात्मा गाँधी केन्द्रीय विश्वविद्यालय भारत का एक सार्वजनिक विश्वविद्यालय है जो बिहार के मोतिहारी में स्थित है। मोतिहारी में केंद्रीय विश्वविद्यायल की स्थापना होने से सिर्फ चंपारण बल्कि आसपास के जिलों का शैक्षणिक विकास होगा। मोतिहारी सहित गोपालगंज, बेतिया, शिवहर, मुजफ्फरपुर, सीतामढ़ी, मधुबनी आदि जिलों के युवा उच्च शिक्षा के लिए दूसरे प्रदेश का रूख करते थे।

महात्मा गाँधी केन्द्रीय विश्वविद्यालय बिहार

स्थापित2016
प्रकार:सार्वजनिक
कुलपति:प्रोफेसर डॉ संजीव कुमार शर्मा
अवस्थिति:मोतिहारी, बिहार, भारत
जालपृष्ठ:आधिकारिक जालस्थल

संक्षिप्त इतिहाससंपादित करें

  • 20 नवंबर 2008 तत्कालीन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इंजीनियरिंग कॉलेज के उद‌्घाटन के दौरान मोतिहारी में महात्मा गांधी के नाम पर केविवि की स्थापना करने की बात कही।
  • जनवरी 2009 विकास यात्रा के दौरान नीतीश कुमार ने मोतिहारी में के.वि.वि. के स्थापना की घोषणा की।
  • 6 नवंबर 2009- मानव संसाधन विकास मंत्रालय के निर्देश पर चार सदस्यीय टीम ने सचिव अरुण कुमार सिंह के नेतृत्व में प्रस्तावित स्थलों का निरीक्षण किया प्रस्तावित स्थलों को खारिज कर रिपोर्ट सौंपी।
  • 2010 - महात्मा गांधी केविवि संघर्ष मोर्चा की स्थापना कर मोतिहारी में केविवि की स्थापना के लिए आंदोलन।
  • 17 अप्रैल 2012- जिले में सभी जगहों पर लोगों ने मानव श्रृंखला बनाकर केविवि के आंदोलन को गति दी।
  • 27 मार्च 2012- रेल रोको आंदोलन केंद्र सरकार के कार्यालयों में तालाबंदी की।
  • 30 अप्रैल 2012 दिल्ली के जंतर-मंतर पर धरना।
  • अगस्त 2012 कैबिनेट से मोतिहारी गया में केविवि के स्थापना को मंजूरी, लेकिन नाम महात्मा गांधी केविवि की जगह उत्तर बिहार केविवि रखा गया।
  • नवंबर 2012 संसद में केविवि के स्थापना की विधेयक लाया गया, जो स्वीकृत नहीं हो सका।
  • 6 जुलाई 2014 महात्मा गांधी के नाम पर मोतिहारी में केविवि स्थापना को कैबिनेट से मिली मंजूरी।
  • अक्टूबर २०१६ - विश्विद्यालय में शैक्षणिक सत्र शुरू[1]

सन्दर्भसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें