मुख्य मेनू खोलें

तटीय मन्दिर (७००-७२८ ई. में निर्मित) को ये नाम इसलिये मिला क्योंकि ये बंगाल की खाड़ी के तट पर ही स्थित हैं। इस मंदिर को दक्षिण भारत के सबसे प्राचीन मंदिरों में माना जाता है जिसका संबंध आठवीं शताब्दी से है। यह मंदिर द्रविड वास्तुकला का बेहतरीन नमूना है। यहां तीन मंदिर हैं। बीच में भगवान विष्णु का मंदिर है जिसके दोनों तरफ से शिव मंदिर हैं। मंदिर से टकराती सागर की लहरें एक अनोखा दृश्य उपस्थित करती हैं।

तट मंदिर
Mamallapuram (167).jpg
तटीय मन्दिर परिसर
धर्म संबंधी जानकारी
सम्बद्धताहिंदू धर्म
अवस्थिति जानकारी
अवस्थितिमामल्लपुरम या महाबलिपुरम, कांचीपुरम जिला
राज्यतमिल नाडु
देशभारत
वास्तु विवरण
प्रकारद्रविड़ स्थापत्यकला
निर्मातानरसिंहवर्मन् १, पल्लव राजवंश
तट मंदिर, महाबलिपुरम
महाबलिपुरम के तट मंदिर
युनेस्को विश्व धरोहर स्थल
Shore Temple (Detail of North Face, 2011-05-28).jpg
मामल्लपुरम के तटीय मंदिर (महाबलिपुरम) (700–728 AD)
Gopurum at Mahabalipuram.JPG
गोपुरम, महाबलिपुरम
Shore Temple - Deities.JPG
शिव पार्वती हिन्दू देवी देवत
Idol inside miniature shrine, Shore Temple.jpg
लघु स्थल
118px
लघु मंदिर में दुर्गा सिंह पर सवार
The Lord.JPG
शेषशायी विष्णु
Shore Temple 8-3.jpg
पाषाण शिल्पाकृतियाँ

सन्दर्भसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें