महिलाओं से छेड़छाड़ भारत में और कभी-कभी पाकिस्तान और बांग्लादेश[1] में पुरुषों द्वारा महिलाओं के सार्वजनिक यौन उत्पीड़न, सड़कों पर परेशान करने या छेड़खानियों के लिए प्रयुक्त व्यंजना है, जिसके अंग्रेज़ी पर्याय ईव टीज़िंग में ईव[2] शब्द बाइबिलीय संदर्भ में प्रयुक्त होता है।

"I Never Ask for It", भारत.

यौन संबंधी इस छेड़छाड़ की गंभीरता, जिसे युवाओं में अपचार[3] से संबंधित समस्या के रूप में देखा जाता है, वासनापरक सांकेतिक टिप्पणियां कसने, सार्वजनिक स्थानों में छूकर निकलने, सीटी बजाने से लेकर स्पष्ट रूप से जिस्म टटोलने तक विस्तृत है।[4][5][6] कभी-कभी इसे निर्दोष मज़े के विनीत संकेत के रूप में संदर्भित किया जाता है, जिससे यह अहानिकर प्रतीत होता है जिसका अपराधी पर कोई परिणामी दायित्व नहीं बनता है।[7] कई नारीवादियों और स्वैच्छिक संगठनों ने सुझाव दिया है कि इस अभिव्यंजना को और अधिक उपयुक्त शब्द द्वारा प्रतिस्थापित किया जाए. उनके अनुसार, भारतीय अंग्रेज़ी भाषा में शब्द ईव-टीज़िंग के अर्थगत मूल पर विचार करने से यह स्त्री की लुभाने वाली प्रकृति को इंगित करता है, जहां मोहने का दायित्व महिला पर ठहरता है, मानो पुरुषों की छेड़छाड़पूर्ण प्रतिक्रिया अपराधमूलक होने के बजाय स्वाभाविक है।[8][9]

महिलाओं के साथ छेड़छाड़ ऐसा अपराध है जिसे प्रमाणित करना बेहद मुश्किल है, चूंकि अपराधी अक्सर महिलाओं पर हमले के सरल तरीक़े ढूंढ़ लेते हैं, हालांकि कई नारीवादी लेखकों ने इसे "छोटे बलात्कार" का नाम दिया है,[10] और सामान्यतः यह सार्वजनिक स्थलों, सड़कों और सार्वजनिक वाहनों में घटित होता है।[11]

इसके संबंध में कुछ मार्गदर्शक पुस्तिकाओं में महिला पर्यटकों को सुझाव दिया जाता है कि रूढ़िवादी कपड़े पहनने से छेड़खानियों से बचा जा सकता है, हालांकि भारतीय महिला और रूढ़िवादी पोशाक पहनने वाली विदेशी महिलाएं, दोनों ने छेड़छाड़ की रिपोर्टें दर्ज करवाई हैं।

इतिहाससंपादित करें

हालांकि 1960 के दशक में इस समस्या ने जनता और मीडिया का ध्यान आकर्षित किया,[12][13] आगामी दशकों में, जब अधिक महिलाओं ने कॉलेज जाना और स्वतंत्र रूप से काम करना शुरू किया, यानी जब पारंपरिक समाज में पुरुषों ने उनके मार्गरक्षक के रूप में साथ जाना बंद किया, यह समस्या चिंताजनक स्तर तक बढ़ गई।[14] जल्द ही भारत सरकार को इस जोख़िम पर अंकुश लगाने के लिए न्यायिक और क़ानून प्रवर्तन, दोनों दृष्टि से सुधारोपाय लागू करने पड़े और पुलिस को इस समस्या के प्रति संवेदनशील बनाने के प्रयास किए गए तथा पुलिस ने छेड़खानी करने वालों को घेरना शुरू किया। इस प्रयोजन के लिए सामान्य वेशभूषा में महिला पुलिस अधिकारियों की तैनाती विशेष रूप से प्रभावी रही है,[15] विभिन्न राज्यों में किए गए अन्य उपायों में शामिल हैं विभिन्न शहरों में महिलाओं के लिए हेल्पलाइन की स्थापना, महिला पुलिस स्टेशन और पुलिस द्वारा महिलाओं के साथ छेड़छाड़ करने वालों के खिलाफ़ विशेष कक्षों की स्थापना.[16]

इसके अलावा, इस अवधि के दौरान महिलाओं के साथ छेड़छाड़ करने वालों के प्रति जनता के बदलते रवैये की वजह से, यौन उत्पीड़न के मामले जैसी छेड़खानियों की घटनाओं को रिपोर्ट करने के लिए आगे आने वाली महिलाओं की संख्या में वृद्धि दृष्टिगोचर हुई. साथ ही, छेड़छाड़ की घटनाओं की गंभीरता में भी बढ़ोतरी हुई, कुछ मामलों में एसिड फेंकने जैसी घटनाएं सामने आईं, जिसके फलस्वरूप तमिलनाडु जैसे राज्यों ने महिलाओं के साथ छेड़छाड़ को ग़ैर जमानती अपराध घोषित किया। महिला संगठनों की संख्या और महिलाओं के अधिकारों के लिए काम करने वालों की संख्या में भी वृद्धि हुई, विशेषकर इस अवधि में दुल्हन जलाने की रिपोर्टों में बढ़ोतरी देखी गई। महिलाओं के प्रति हिंसक घटनाओं में वृद्धि का मतलब क़ानून निर्माताओं द्वारा महिलाओं के अधिकारों के प्रति पहले के निरुत्साही नज़रिए को त्यागना है। आगामी वर्षों में ऐसे संगठनों ने, 'दिल्ली महिलाओं के साथ छेड़छाड़ निषेध विधेयक 1984' सहित महिलाओं को हिंसक छेड़खानियों से बचाने के लिए परिकल्पित क़ानून को पारित करने के लिए समर्थन जुटाने में प्रमुख भूमिका निभाई.[14]

1998 में महिलाओं के साथ छेड़छाड़ के परिणामस्वरूप चेन्नई की एक छात्रा सारिका शाह की मृत्यु, दक्षिण भारत में समस्या का सामना करने के लिए कड़े क़ानूनों को सामने ले आई.[17] इस मामले के बाद, लगभग आधा दर्जन आत्महत्या की रिपोर्टें दर्ज हुईं, जिसके लिए महिलाओं के साथ छेड़खानी की वजह से उत्पन्न दबाव को उत्तरदायी ठहराया गया।[14] 2007 में, एक छेड़खानी के मामले की वजह से दिल्ली के कॉलेज की छात्रा पर्ल गुप्ता की मौत हुई. फरवरी 2009 में, एम.एस. विश्वविद्यालय (MSU) वडोदरा से छात्राओं ने चार युवा लोगों की परिवार और समुदाय विज्ञान विभाग के पास पिटाई की, जब उन्होंने एस.डी. हॉल छात्रावास में निवास करने वाली छात्राओं पर भद्दी टिप्पणियां कसीं.[18]

प्रतिशोध और समाज में बदनामी के डर से कई मामलों की रिपोर्ट दर्ज नहीं होती हैं। कुछ मामलों में पुलिस, अपराधियों को सार्वजनिक अपमान के बाद मुर्ग़ा सज़ा देकर छोड़ देते हैं।[19][20] 2008 में, दिल्ली की एक अदालत ने महिला के साथ छेड़खानी करते हुए पकड़े गए एक 19 वर्षीय युवा को अपने अभद्र आचरण के परिणामों का विवरण देते हुए स्कूल और कॉलेजों के बाहर युवाओं को 500 परचे बांटने का आदेश दिया.[21]

लोकप्रिय संस्कृति में वर्णनसंपादित करें

परंपरागत रूप से, भारतीय सिनेमा ने आम नाच-गाने के साथ, प्रेम प्रसंग की शुरूआत के तौर पर महिलाओं के साथ छेड़खानियों को दर्शाया, जो हमेशा गाने के अंत तक नायक के प्रति नायक के समर्पण से ख़त्म होता है। और युवक परदे पर प्रदर्शित इस अचूक नमूने का अनुकरण करते हुए देखे जाते हैं, जो सड़कछाप प्रेमियों को जन्म देता है जिसका फ़िल्मी संस्करण (सैफ़ अली ख़ान अभिनीत) रोडसाइड रोमियो (2007) में देख सकते हैं।[11] इसका एक और दर्शाया जाने वाला लोकप्रिय नज़ारा है कि जब महिलाओं के साथ छेड़खानी करने वाले युवक किसी लड़की को छेड़ते हैं, तो नायक वहां पहुंचता है और उनकी पिटाई करता है, जैसा कि तेलुगू फ़िल्में "मधुमासम" और "मगधीरा" और हिन्दी फ़िल्म "वान्टेड" में देख सकते हैं। आजकल यह समस्या भारतीय टेलीविज़न धारावाहिकों में भी दिखाई जाने लगी है।

कानूनी निवारणसंपादित करें

हालांकि भारतीय क़ानून में 'ईव-टीज़िंग' (महिलाओं के साथ छेड़छाड़) शब्द का प्रयोग नहीं हुआ है, पीड़ितों द्वारा आम तौर पर भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 294 (ए) और (बी) का आश्रय लिया जाता है, जो युवती या महिला के प्रति अश्लील इशारों, टिप्पणियों, गाने या कविता-पाठ करने के अपराध में दोषी पाए गए व्यक्ति को अधिकतम तीन महीनों की सज़ा देती है। भारतीय दंड संहिता की धारा 292 स्पष्ट रूप से परिभाषित करती है कि महिला या युवती को अश्लील साहित्य या अश्लील तस्वीरें, क़िताबें या पर्चियां दिखाने वाले, पहली बार दोषी पाए गए व्यक्ति को दो वर्षों के लिए सश्रम कारावास की सज़ा देते हुए, 2000 रु. का जुर्माना वसूला जाए. अपराध दोहराने पर, जब प्रमाणित हो, तो अपराधी को पांच साल के लिए कारावास सहित 5000 रु. का जुर्माना लगाया जाएगा. भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा के अधीन महिला या युवती के प्रति अश्लील हरकत, अभद्र इशारे या तीखी टिप्पणियां करने वाले पर एक वर्ष के कठोर कारावास की सज़ा या जुर्माना या दोनों लगाए जा सकते हैं।[22][23]

भारतीय दंड संहिता (IPC)की धारा 354-A , धारा 354-D में महिला के प्रति अश्लील इशारों , अश्लील टिप्पणियों , पिछा करने पर कठोर कारावास की सज़ा या जुर्माना या दोनों लगाए जा सकते हैं।

'राष्ट्रीय महिला आयोग' (NCW) ने संख्या 9 महिलाओं के साथ छेड़छाड़ (नया क़ानून) 1988 का भी प्रस्ताव रखा है।[8]

सार्वजनिक प्रतिक्रियासंपादित करें

 
महिलाओं के साथ छेड़खानी के खिलाफ़ मेजेस्टिक बस स्टैंड पर ब्लैंक नॉइज़ परियोजना द्वारा हस्तक्षेप.

'निडर कर्नाटक' या 'निर्भय कर्नाटक', कई व्यक्तियों और 'वैकल्पिक क़ानूनी मंच', 'ब्लैंक नॉइज़' 'मरा', 'संवादा' और 'विमोचना' जैसे समूहों का गठबंधन है। 2000 के दशक में महिलाओं के साथ छेड़छाड़ की घटनाओं में वृद्धि के बाद, उसने जनता के बीच कई जागरूकता अभियान चलाए, जिनमें शामिल है 'टेक बैक द नाइट' और 2003 में बेंगलूर में प्रवर्तित सार्वजनिक कला परियोजना जिसका शीर्षक है द ब्लैंक नॉइज़ प्रॉजेक्ट.[24] महिलाओं से छेड़छाड़ करने वालों के खिलाफ़ एक ऐसा ही कार्यक्रम 2008 में मुंबई में आयोजित किया गया।[25]

भारत में महिलाओं के लिए सबसे ख़तरनाक शहर दिल्ली में,[26] महिला और बाल विकास विभाग ने 2010 में आयोजित होने वाले राष्ट्रमंडल खेलों के लिए शहर को तैयार करने हेतु एक संचालन समिति की स्थापना की.[27]

मुंबई में महिलाओं के लिए विशेष रेलगाड़ियां शुरू की गईं ताकि कामकाजी महिलाएं और शहर में पढ़ाई करने वाली युवतियां बिना किसी छेड़खानी से डरे, कम से कम अपनी लंबी यात्रा सुरक्षित रूप से तय कर सकें. 1995 के बाद से, यात्रा करने वाली महिलाओं की दुगुनी संख्या के साथ, इस प्रकार की सेवाओं की भारी मांग रही है।[28]. आज बड़े शहरों की सभी स्थानीय रेलगाड़ियों में "महिलाओं के लिए विशेष" डिब्बे मौजूद हैं। अन्य रेलगाड़ियों में, महिलाओं को ए.सी. कोच में यात्रा की सलाह दी जाती है, क्योंकि ये कोच महिलाओं के साथ छेड़खानी करने वाले आर्थिक रूप से ग़रीब और सामाजिक रूप से पिछड़े वर्ग के लोगों से मुक्त होते हैं।

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

  • यौन उत्पीड़न
  • जापान में चिकन (यौन उत्पीड़न और जिस्म टटोलना)
  • खाली शोर परियोजना
  • भारत में कामुकता
  • जिंदा (2006) एक बॉलीवुड फ़िल्म, जो महिलाओं से छेड़छाड़ करने के अप्रिय परिणामों और छेड़ने वाले की सज़ा पर केंद्रित था।

अतिरिक्त पठनसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. हियर इट ईज़ कॉल्ड ईव-टीज़िंग Archived 2013-11-04 at the Wayback Machine ज्योति पुरी द्वारा वुमन, बॉडी, डिज़ायर इन पोस्ट-कलोनियल इंडिया: नरेटिव्ज़ ऑफ़ जेंडर एंड सेक्शुआलिटी . रूटलेड्ज द्वारा 1999 में प्रकाशित. ISBN 0-415-92128-7. पृष्ठ 87 .
  2. ईव-टीज़िंग Archived 2016-05-04 at the Wayback Machine, ग्रैंट बैरेट द्वारा लिखित द अफ़िशियल डिक्शनरी ऑफ़ अनअफ़िशियल इंग्लिश . मॅकग्रा-हिल प्रोफ़ेशनल द्वारा 2006 में प्रकाशित. ISBN 0-07-145804-2. पृष्ठ 109 .
  3. ईव-टीज़िंग Archived 2014-06-14 at the Wayback Machine, गिरिराज शाह द्वारा लिखित इमेज मेकर्स: एन एटिट्युडिनल स्टडी ऑफ़ इंडियन पुलिस . अभिनव पब्लिकेशन्स द्वारा 1993 में प्रकाशित ISBN 81-7017-295-0. पृष्ठ 233-234 .
  4. ल्युड नेचर गोस अनचेक्ड Archived 2014-09-02 at the Wayback Machine कानपुर, टाइम्स ऑफ़ इंडिया, 26 फ़रवरी 2009.
  5. कंट्रोलिंग ईव-टीज़िंग Archived 2014-01-29 at the Wayback Machine द हिंदू, मंगलवार, 13 अप्रैल 2004.
  6. हरैसमेंट इन पब्लिक प्लेसस ए रूटिन फ़ॉर मेनी Archived 2009-02-16 at the Wayback Machine, द टाइम्स ऑफ़ इंडिया, जयपुर, 15 फ़रवरी 2009.
  7. ईव टीज़िंग Archived 2014-07-04 at the Wayback Machine शशि थरूर द्वारा लिखित द एलिफ़ेंट, द टाइगर, एंड द सेल फ़ोन: इंडिया: द एमर्जिंग ट्वेंटी फ़र्स्ट सेंचुरी पॉवर, आर्केड पब्लिकेशन्स द्वारा 2007 में प्रकाशित. ISBN 1-55970-861-1. पृष्ठ 454-455 .
  8. महिलाओं के लिए राष्ट्रीय आयोग (एनसीडब्ल्यू) द्वारा महिलाओं को प्रभावित करने वाले क़ानून और विधायी उपाय Archived 2009-06-19 at the Wayback Machine महिलाओं के लिए राष्ट्रीय आयोग.
  9. सेक्शुअल हरैसमेंट Archived 2013-05-01 at the Wayback Machine, गीतांजलि गांगुली द्वारा लिखित इंडियन फ़ेमिनिज़म्स: लॉ, पेट्रियार्कीज़ एंड वायलेंस इन इंडिया . एशगेट पब्लिशिंग लिमिटेड द्वारा 2007 में प्रकाशित. ISBN 0-7546-4604-1.पृष्ठ 63-64 .
  10. रसेल डोबैश, हैरी फ़्रैंक गजेनहीम फ़ाउंडेशन द्वारा रीथिंकिंग वायलेंस अगेन्स्ट विमेन . सेज द्वारा 1998 में प्रकाशित. ISBN 0-7619-1187-1. पृष्ठ 58 .
  11. इन पब्लिक स्पेसस: सेक्युरिटी इन द स्ट्रीट एंड इन द चौक Archived 2014-06-27 at the Wayback Machine फ़राह फ़ैज़ल, स्वर्णा राजगोपालन द्वारा विमेन, सेक्युरिटी, साउथ एशिया: ए क्लियरिंग इन द थिकेट . सेज द्वारा 2005 में प्रकाशित. ISBN 0-7619-3387-5. पृष्ठ 45
  12. ईव-टीज़िंग Archived 2010-11-13 at the Wayback Machine टाइम सोमवार, 12 सितंबर 1960.
  13. "शब्द के उद्धरण जो दर्शाते हैं कि यह 1960 के दशक से ही प्रचलन में है". मूल से 16 सितंबर 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 12 नवंबर 2010.
  14. ईव टीज़िंग मंगई नटराजन द्वारा विमेन पुलिस इन ए चेंजिंग सोसाइटी: बैक डोर टू इक्वालिटी . एशगेट पब्लिशिंग, लिमिटेड द्वारा 2008 में प्रकाशित. ISBN 0-7546-4932-6. पृष्ठ 54 .
  15. "केरल में महिलाओं से छेड़छाड़ करने वालों को पकड़ने के लिए विशेष दस्तों का गठन". मूल से 18 जुलाई 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 12 नवंबर 2010.
  16. इलाहाबाद में सड़कछाप रोमियो पर निगरानी रखने के लिए विशेष दल Archived 2009-04-13 at the Wayback Machine मजनू का पिंजरा, इंडोपिया, 20 फ़रवरी 2009.
  17. महिलाओं से छेड़खानी के मामले में हत्या का आरोप Archived 2012-10-15 at the Wayback Machine इंडियन एक्सप्रेस, सोमवार, 27 जुलाई 1998.
  18. MSU छात्रावास की लड़कियों द्वारा छेड़छाड़ करने वालों की पिटाई Archived 2010-05-24 at the Wayback Machine द टाइम्स ऑफ़ इंडिया, 23 फ़रवरी 2009.
  19. 'मुर्ग़ा' बनने की सज़ा के साथ पाक पुलिस द्वारा महिलाओं के साथ छेड़छाड़ करने वालों पर रोक Archived 2010-02-19 at the Wayback Machine डेली एक्सेलसियर, 10 अक्टूबर 2007.
  20. लोक अभियोजन: अपराध और त्वरित सजा! Archived 2010-08-30 at the Wayback Machine द टाइम्स ऑफ़ इंडिया, 29 जून 2006.
  21. महिलाओं के साथ छेड़खानी करते हुए पकड़े गए युवक से हैंडआउट्स वितरित करने के लिए कहा गया Archived 2009-02-24 at the Wayback Machine इंडियन एक्सप्रेस न्यूज़ सर्विस, 10 जून 2008.
  22. ईव टीज़िंग लक्ष्मी देवी द्वारा एनसाइक्लोपीडिया ऑफ़ सोशल चेंज . अनमोल पब्लिकेशन्स प्रा. लि. द्वारा 2004 में प्रकाशित. ISBN 81-7488-161-1. पृष्ठ 159-160 .
  23. सेक्शुअल हरैसमेंट Archived 2013-05-01 at the Wayback Machine गीतांजलि गांगुली द्वारा इंडियन फ़ेमिनिज़्म्स: लॉ, पेट्रियार्कीज़ एंड वायलेंस इन इंडिया . एशगेट पब्लिशिंग लिमिटेड द्वारा 2007 में प्रकाशित. ISBN 0-7546-4604-1.पृष्ठ 63 .
  24. महिला विशेष दिवस: केवल महिलाओं से छेड़छाड़ नहीं! Archived 2009-03-12 at the Wayback Machine डेक्कन हेराल्ड, शनिवार 7 मार्च 2009.
  25. [1] Archived 2010-08-30 at the Wayback Machine Rediff.com, 4 मार्च 2008.
  26. राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो, भारत Archived 2013-01-08 at archive.today से महानगरों की सांख्यिकी
  27. "दिल्ली बनाम "महिलाओं से छेड़छाड़ करने वाले": समय के प्रति एक दौड़, केतकी गोखले, वॉल स्ट्रीट जर्नल, 14-सितंबर-2009". मूल से 24 अगस्त 2010 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 12 नवंबर 2010.
  28. मुंबई की महिलाओं के लिए विशेष ट्रेन कामुक यात्री कीटों को पीछे छोड़ती हुई, हेलेन अलेक्जेंडर और राइज़ ब्लेकल, टाइम्स ऑनलाइन ब्रिटेन, 14-अक्टूबर-2009

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें