एक माँ अपने बच्चे को थामे हुए देखी जा सकती है।

मातृत्व एक महत्वपूर्ण मानव बंधन है। यह एक माँ के अपने बच्चों के प्रति स्नेह, प्यार और देखरेख का नाम है। माँ न केवल बच्चों के खाने-पीने और स्वास्थ्य का ध्यान रखती है बल्कि हर काम में स्वयं से आगे बच्चों की भलाई को रखती है। स्कूली बच्चों की माएँ अपने कपड़ों की सिलवटों को अन्देखा करे अपने बच्चों के स्कूल ड्रेस की इसतरी करती दिखाई देती है। इसी प्रकार से माएँ अपनी क्षमताओं के आगे जाकर हर वह नामुमकिन काम करती हैं जो अपनी संतान के हित और उनके उज्ज्वल भविष्य के लिए आवश्यक होता है। [1]

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें