नवी शताब्दी के महान चिकित्साशास्त्री माधव कर, ने रुजविनिश्चय नामक ग्रंथ की रचना की, इस ग्रंथ में विभिन्न रोगों के निदान की व्याख्या की गई है, इस ग्रंथ को माधव निदान के नाम से भी जाना जाता हैं,