मिखाइल गोर्बाचेव

इनकी विचार धारा थोड़ी बहुत लोकतांत्रिक थी।

मिखाइल सर्गेईविच गोर्बाचेव (जन्म : २ मार्च १९३१) एक रूसी (भूतपूर्व सोवियत) राजनेता हैं। १९८५ से १९९१ तक, वह सोवियत संघ के आठवें व अंतिम नेता होने के अतिरिक्त सोवियत संघ के साम्यवादी दल के महासचिव रहे। उनको शांति का नोबेल पुरस्कार मिला। वह पेरेस्त्राइका के लिए प्रसिद्ध है। उनका नाम रूसी इतिहास में, सोवियत संघ में लाए गए सुधारों के लिए प्रसिद्ध हैं।

गोर्बाचेव, आइसलैंड की राजधानी रेक्याविक में, अक्टूबर १९८६ के सम्मेलन के दौरान

देखिएसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें