मुख्य मेनू खोलें

मुखम्मस (अंग्रेजी: Mukhammas) (उर्दू:مخمس) उर्दू कविता का एक प्रारूप है। इसकी उत्पत्ति फ़ारसी भाषा से हुई है ऐसा माना जाता है। इसमें प्रत्येक बन्द या चरण 5-5 पंक्ति का होता है पहले चरण की सभी पंक्तियों में एक-सी लयबद्धता होती है। जबकि बाद के सभी बन्द अपनी अन्तिम पंक्ति में शुरुआती बन्द की आखिरी बन्दिश लय में आबद्ध होते रहते हैं।

निम्न उद्धरण में दिये गये शुरुआती बन्द से यह बात एकदम स्पष्ठ हो जाती है। (शेष अंश नीचे उदाहरण वाले अनुभाग में देखें):

हैफ़ हम जिसपे कि तैयार थे मिट जाने को, यक-ब-यक हमसे छुड़ाया उसी कासाने को, आस्माँ क्या यही बाकी था सितम ढाने को, लाके गुर्बत में जो रक्खा हमें तड़पाने को, क्या कोई और बहाना न था तरसाने को![1]

उदाहरणसंपादित करें

जज्वये-शहीद (बिस्मिल की तड़प[2])

हम भी आराम उठा सकते थे घर पर रह कर, हमको भी पाला था माँ-बाप ने दुःख सह-सह कर, वक्ते-रुख्सत उन्हें इतना भी न आये कह कर, गोद में अश्क जो टपकें कभी रुख से बह कर, तिफ्ल उनको ही समझ लेना जी बहलाने को!

अपनी किस्मत में अजल ही से सितम रक्खा था, रंज रक्खा था मेहन रक्खी थी गम रक्खा था, किसको परवाह थी और किसमें ये दम रक्खा था, हमने जब वादी-ए-ग़ुरबत में क़दम रक्खा था, दूर तक याद-ए-वतन आई थी समझाने को!

अपना कुछ गम नहीं लेकिन ए ख़याल आता है, मादरे-हिन्द पे कब तक ये जवाल आता है, कौमी-आज़ादी का कब हिन्द पे साल आता है, कौम अपनी पे तो रह-रह के मलाल आता है, मुन्तजिर रहते हैं हम खाक में मिल जाने को!

नौजवानों! जो तबीयत में तुम्हारी खटके, याद कर लेना कभी हमको भी भूले भटके, आपके अज्वे-वदन होवें जुदा कट-कट के, और सद-चाक हो माता का कलेजा फटके, पर न माथे पे शिकन आये कसम खाने को!

एक परवाने का बहता है लहू नस-नस में, अब तो खा बैठे हैं चित्तौड़ के गढ़ की कसमें, सरफ़रोशी की अदा होती हैं यूँ ही रस्में, भाई खंजर से गले मिलते हैं सब आपस में, बहने तैयार चिताओं से लिपट जाने को!

सर फ़िदा करते हैं कुरबान जिगर करते हैं, पास जो कुछ है वो माता की नजर करते हैं, खाना वीरान कहाँ देखिये घर करते हैं! खुश रहो अहले-वतन! हम तो सफ़र करते हैं, जा के आबाद करेंगे किसी वीराने को!

नौजवानो ! यही मौका है उठो खुल खेलो, खिदमते-कौम में जो आये वला सब झेलो, देश के वास्ते सब अपनी जबानी दे दो, फिर मिलेंगी न ये माता की दुआएँ ले लो, देखें कौन आता है ये फ़र्ज़ बजा लाने को?

पाद टिप्पणीसंपादित करें

भारतीय क्रान्तिकारी राम प्रसाद 'बिस्मिल' का यह उपरोक्त उर्दू मुखम्मस भारतीय स्वतन्त्रता संग्राम के दौरान सर्वाधिक लोकप्रिय हुआ था। यह रचना इतनी भावपूर्ण है कि लाहौर कान्स्पिरेसी केस के समय जब प्रेमदत्त नामक एक कैदी ने अदालत में गाकर सुनायी तो अदालत मे उपस्थित सभी श्रोता रो पड़े थे।[3][4]

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Verma, 'Krant' Madan Lal (1998). "बिस्मिल की तड़प (हिन्दी काव्यानुवाद)". Krantikari Bismil Aur Unki Shayri (1 संस्करण). Delhi: Prakhar Prakashan. पृ॰ २१. OCLC 466558602. अभिगमन तिथि २६ मार्च २०१४. हमें अफ़सोस है यही कि हम जिसपे तैयार थे स्वयं सशरीर मिट जाने को, क्रूर आततायी तूने क्यों बलात छीन लिया हमसे हमारे उसी प्यारे आशियाने को, कोई तो बताये हमें आके समझाये यहाँ काहे तन्हाई में रखा है तड़पाने को, हाय तकदीर के विधाता तू बता तो सही क्या न कोई और था बहाना तरसाने को!
  2. Verma, 'Krant' Madan Lal (1998). Krantikari Bismil Aur Unki Shayri (1 संस्करण). Delhi: Prakhar Prakashan. पृ॰ २०-३०. OCLC 466558602. अभिगमन तिथि २६ मार्च २०१४.
  3. खलीक अंजुम मुज्तबा हुसैन जब्तशुदा नज्में पृष्ठ-१८
  4. नूरनबी अब्बासी जब्तशुदा नज्में पृष्ठ-२९

सन्दर्भ हेतु पुस्तक-सूचीसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें