सात हज़ार वर्ष पहले का मिलने वाला प्राचीनतम मानव मुखौटा जो पूर्णतः पत्थर से बना है।

मुखौटा एक प्रकार से किसी भी व्यक्ति के चहरे को ढाँकने की वस्तु है। इसके विभिन्न उद्देश्य हो सकते है। जैसे कि नृत्य के प्रकारों को नृतक काफ़ी लगन से उसे पहनते हैं। कुछ मुखौटे पारम्परिक रूप से पहने जाते हैं, जैसे कि रेड इंडियन समुदाय के लोग पहनते हैं। कुछ मुखौटे अपनी पहचान छुपाने के लिए पहने जाते हैं, जैसे कि अपराध के समय या जासूस लोग पहनते हैँ। कुछ मुखौटे मनोरंजन के लिए पहने जाते हैं। आधुनिक काल में एसी कुछ पार्टियाँ होती हैं जिनमें न्योताधारको से अपेक्षा की जाती है कि वे किसी फ़ैंसी रूप में पार्टी में प्रवेश करें।

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें