पाखण्ड किसी व्यक्ति की वह चारित्रिक विशेषता है जो अपने पास अच्छे गुण, नैतिकता और सिद्धान्तों के होने का दिखावा करता है किन्तु वे उसके पास होती नहीं हैं।

इन्हें भी देखेंसंपादित करें