मूजी या मुओजी (29 जनवरी 1954 को एंथनी पॉल मू-यंग का जन्म) मूल रूप से जमैका से एक आध्यात्मिक शिक्षक हैं। मूजी अद्वैतवादी रमण महर्षि  के एक भक्त पापाजी के एक शिष्य हैं।अपने छात्रों को यह प्रश्न करने के लिए प्रोत्साहित करते हुए कि गहनतम स्तर पर वे क्या हैं या वे कौन हैं और, अद्वैत आत्मा/स्वसत्ता को समझाते हुए मूजी अपने 'स्व' या आत्मा/स्वसत्ता की खोज को उनके साथ साँझा करते हैं।  "मैं हूं" या "मेरा अस्तित्व है" की स्वाभाविक भावना को पहचानना या "मैं हूं" या "मेरा अस्तित्व है" के स्वाभाविक बोध को मह्सूस करना और 5 से 7 मिनट के लिए ऐसे ही बने रहना (अर्थात् इसी बोध मे स्थिर बने रहना)-- एक प्रसिद्ध  विधि है। अर्थात, खुद के होने के अहसास को महसूस करना और कुछ क्षण इसी अनुभव में टिके रहना। इसी प्रकार,--इस बात का ज्ञान होना कि सब कुछ (विचारों, भावनाओं, संवेदनाओं) को एक विषय की तरह अनुभव किया जा सकता है या जाना जा सकता है, और फिर इस बात की खोज करना कि  "क्या खुद जानने वाले को जाना जा  सकता है?" --एक और विधि है।

श्री मूजी


Biographyसंपादित करें

Referencesसंपादित करें

External linksसंपादित करें