मूषक (जालस्थल)

भारतीय सामाजिक जालस्थल


मूषक या मूषक.भारत हिन्दी भाषा में उपलब्ध भारतीय सामाजिक जालस्थल है।[2] इसका निर्माणकर्ता और मुख्य कार्यकारी अधिकारी अनुराग गौड़ हैं।[3][4]ट्वि‍टर की तर्ज पर वर्ल्‍ड हिंदी सम्‍मेलन की शुरुआत से पहले हिंदी नेटवर्किंग साइट ‘मूषक’ (Mooshak) को 9 सितम्बर 2015 को विश्व हिंदी सम्मेलन,भोपाल में लांच कि‍या गया। इस नई नेटवर्किंग जालस्थल के निशाने पर हिंदी भाषी लोग हैं।

मूषक (जालस्थल)
संस्थापक अनुराग गौड़, प्रचीर
मुख्यालय पुणे, भारत
उद्योग इंटरनेट
जालस्थल

मूषक.भारत

mooshak.in
ऐलेक्सा श्रेणी Increase १२३,४६७ (दिसम्बर 2015 के अनुसार )[1]
पंजीकरण अनिवार्य
उपलब्ध हिन्दी

शुरुआतसंपादित करें

स्त्रोतानुसार करीब दो साल पहले मूषक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) अनुराग गौड़ [5] को एक ग्राफिक डिज़ाइनर की तलाश थी, जो उनके टी-शर्ट ब्रांड ‘साबूदाना’ के लिए बढ़िया डिज़ाइनिंग कर सके।

इसके लिए उन्हें किसी ने प्राचीर के बारे में बताया। अनुराग ने एक सुबह प्राचीर को कॉल किया। इसके कुछ घंटे बाद वे दोनों कॉफी के कप के साथ चर्चा कर रहे थे। तब चर्चा करते-करते अनुराग ने प्राचीर को हिंदी भाषा में एक सोशल नेटवर्किंग जालस्थल ‘मूषक’ को विकसित करने के विचार के बारे में बताया। प्राचीर को यह विचार अच्छा लगा व उन्होंने मूषक का हिस्सा बनने के लिए हामी भर दी।

जिस समय प्राचीर ने ‘मूषक’ को विकसित करने के लिए हामी भरी थी, वे पुणे के इंदिरा कॉलेज में पढ़ रहे थे। इसी दौरान उनकी मुलाकात पुनीत शर्मा से हुई और वे भी ‘मूषक’ बनने के लिए तैयार हो गए। पुनीत जो पहले छोटे रूप में मूषक से जुड़े थे, काफी सोच-विचार के बाद मूषक से पूर्ण रूप से जुड़ गए। पुणे में स्‍टूडेंट्स ने की मदद।

प्राचीर और पुनीत ने पुणे के महाविद्यालयों से स्वयंसेवक जुटाने शुरू कर दिए।

मूषक' के सीईओ ने कहा कि [6][7]

...ट्विटर, फेसबुक जैसे सोशल नेटवर्किंग जालस्थल, जिसे हमारे नेताओं, अभिनेताओं और प्रतिष्ठित लोगों ने जोर-शोर से अपनाया है, वहां प्राथमिकता अंग्रेजी भाषा को दी जाती है और उसे ही देश की आवाज समझा जाता है। हिन्दी दोयम दर्जे की मानी जाती है। उन्होंने कहा कि मूषक द्वारा हम इस प्रक्रिया को सही मायनों में गणतांत्रिक बनाना चाहते हैं, जहां गण की आवाज गण की भाषा में ही उठे।

फॉर्मेटसंपादित करें

टि्वटर पर जहां १४० अक्षरों की सीमा होती है। मूषक में ५०० अक्षर [8] में अपना संदेश लिखा जा सकता है। खुद ही हिंदी में बदल जाएगा अंग्रेजी में टाइप किया हुआ। [9] मूषक को पूरी तरह से हिंदी में संचालित करने के लिए दो विकल्प दिए गए हैं। यदि कोई मूषक का खाताधारक चाहे तो हिन्दी में टाइप कर सकता है या फिर दूसरा विकल्प रोमन में टाइप करने का है, जिसे मूषक स्वयं देवनागरी लिपि में बदल देगा। यह सब ट्रांसलीट्रेशन के एप्लीकेशन को मूषक से एकीकृत करने से संभव हो सका है। इस तरह मूषक हर स्थिति में केवल हिंदी में ही चलेगा। यह सब ट्रांसलीट्रेशन के एप्लीकेशन को मूषक से एकीकृत करने से संभव हो सका है। इस तरह मूषक हर स्थिति में केवल हिंदी में ही चलेगा।

वेबसाइट के झलकसंपादित करें

सत्यापितसंपादित करें

एक सत्यापित मूषक खाते को औपचारिक रूप से एक छोटे बैंगनी "सही का चिन्ह" की प्लेसमेंट के माध्यम से देखा जा सकता है। यह साबित करने के लिए है की एक वास्तविक दुनिया व्यक्ति या कंपनी को प्रतिरूपित नहीं किया जा रहा है। यह चिन्ह एक उपयोगकर्ता के पृष्ठ के शीर्ष दाएं कोने मे रहता है। मूषक बैंगनी "सही का चिन्ह" प्रदान करने के लिए जिम्मेदार है, और यह अक्सर राजनीति, संगीत, फिल्मो, व्यापार, फैशन, सरकार, खेल, मीडिया और पत्रकारिता आदि क्षेत्रो में उल्लेखनीय लोगों के खातों के लिए लागू किया जाता है।

सुरक्षासंपादित करें

मूषक में खाता मोबाइल नंबर के जरिए ही खुलेगा। ऐसे में एक व्यक्ति एक ही खाता खोल पाएगा। यह मूषक की विश्वसनीयता बनाए रखने के लिए किया गया है। मूषक में एक अलग-अलग सूची होगी, जिसमें आप दोस्‍त, परिवार, नेता, अभिनेता जैसी सूचियां बनाकर उन्हें अलग-अलग रख सकते हैं। इससे ढेर सारे सम्पर्कों में दोस्‍तों को तलाशने में परेशानी नहीं होगी।

मोबाइलसंपादित करें

  • एंड्रायड एप्लिकेशन

मूषक का एक मोबाइल एप्लिकेशन भी है जो की एंड्रॉइड गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध है। यह २९ सितंबर २०१५ की स्थिति के अनुसार इसके प्रक्षेपण के बाद से ४.२/५ की रेटिंग के साथ ५०००० डाउनलोड[10] प्राप्त हुए हैं। वर्तमान में यह एंड्रॉइड v.४.० (सन्सकरण) और ऊपर का समर्थन करता है। मूषक केवल आधिकारिक एप्लिकेशन के माध्यम से ही पहुँचा जा सकता है और वर्तमान में किसी भी तीसरी पार्टी क्षुधा एप्प द्वारा नहीं। मूषक आईओएस और अन्य OS पर उपलब्ध नहीं है।

  • एप्लिकेशन के झलक

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "Mooshak.in Site Info". Alexa Internet. मूल से 8 दिसंबर 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि December 27, 2015.
  2. "हिन्दी भाषी लोगों के लिए हिन्दी में आएगी सोशल नेटवर्किंग साइट 'मूषक'". एनडीटीवी. मूल से 5 जनवरी 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 10 जनवरी 2016.
  3. "अब हिन्दी सोशल साइट 'मूषक' पर कीजिए दिल खोलकर बातें". लाइव हिंदुस्तान. मूल से 12 जनवरी 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 10 जनवरी 2016.
  4. "हिन्दी भाषियों को जोड़ रहा है 'मूषक'". वेबदुनिया. 22 सितम्बर 2014. मूल से 31 जनवरी 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 10 जनवरी 2016.
  5. "हिंदी भाषा को बढ़ावा देने के लिए हुई सोशल साइट'मषक'की शुरुआत।". भास्कर. 9 सितम्बर 2015. अभिगमन तिथि 26 जनवरी 2016.[मृत कड़ियाँ]
  6. यादव, कृष्ण कुमार. "हिन्दी भाषी लोगों के लिए हिन्दी में आएगी सोशल नेटवर्किंग साइट 'मूषक'". ब्लॉग. मूल से 29 जनवरी 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 26 जनवरी 2016.
  7. "अब हिन्दी सोशल साइट 'मूषक' पर कीजिए दिल खोलकर बातें". लाइव हिंदुस्तान. 8 सितम्बर 2015. मूल से 12 जनवरी 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 26 जनवरी 2016.
  8. "मूषक-हिन्दीभाषियों-सोशल-नेटवर्किग-साइट". रफ्तार. 23 जनवरी 2016. मूल से 3 फ़रवरी 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 26 जनवरी 2016.
  9. . खास खबर. 8 सितम्बर 2015 [हिन्दी सोशल नेटवर्किग साइट मूषक हिन्दी सोशल नेटवर्किग साइट मूषक] जाँचें |url= मान (मदद). अभिगमन तिथि 26 जनवरी 2016. गायब अथवा खाली |title= (मदद)
  10. "मूषक भारत का सोशल नेटवर्क". गूगल प्ले स्टोर. गूगल. मूल से 5 मार्च 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 26 जनवरी 2016.

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें