मूसला जड़ (Taproot) कुछ पौधों की एक मुख्य केन्द्रीय जड़ होती है जिसमें से अन्य जड़ें निकलती हैं। प्रायः मूसला जड़ लगभग सीधी और मोटी है जिसकी चौड़ाई नीचे जाते-जाते घटती जाती है। यह अक्सर सीधी नीचे की ओर बढ़ती है। कुछ गाजरचुकंदर जैसे पौधो में मूसला जड़ में पौधा उसमें आहार जमा करता है, जिससे मनुष्य व अन्य प्राणी उन्हें खोदकर खाते हैं।[1]

गाजर का नारंगी भाग एक मूसला जड़ होती है

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. James D. Mauseth (2009). Botany: an introduction to plant biology. Jones & Bartlett Learning. पपृ॰ 145–. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-7637-5345-0. मूल से 28 जून 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 28 September 2010.