मेधा पाटकर दिसम्बर १, १९५४ में जन्मीं थी। वे एक भारतीय सामाजिक कार्यकर्ता तथा सामाज सुधारक है। वे भारतीय राजनीतिज्ञ भी है। मेधा पाटकर नर्मदा बचाओ आंदोलन की संस्थापक के नाम से भी जानी जाती है। उनहोने नर्मदा बचाओ आंदोलन की शुरुआत की थी।

== नर्मदा बचाओ आंदोलedha patkar.jpg|अंगूठाकार]] मेधा पाटकर पर्यावरण सक्रियता के लिए मानी जाती हैं। नर्मदा बचाओ आंदोलन में उनका गहरा हाथ हैं। नर्मदा नदी महाराष्ट्रा, मध्या प्रदेश तथा गुजरात में से बहकर अरेबिअन समुद्र तक पहुँचती हैं। इस नदी पर काफ़ी सारे छोटे बांध एवं सरदार सरोवर बांध को बनाने की अनुमती सरकार ने दी थी। इस से हज़ारो आदीवासियों का नुकसान होता। साथ ही साथ किसानों का भी नुकसान हो रहा था। उन से उनकी रहने की जगह छीन लिया जा रहा था। आदीवासियों का विस्थापन हो रहा था और उस के लिये उन्हें मुआवजा भी नहीं दिया जा रहा था। पाटकर उन लोगों में से एक थी जो इस अन्याय से लड़ रही थी। अपना पूरा समय नर्मदा नदी पर लगाने के लिए उन्होनें अपनी पी.एच.डी की पढ़ाई छोड़ दी।