मोंटेगू-चेम्सफोर्ड सुधार

भारत में ब्रिटिश औपनिवेशिक सरकार द्वारा धीरे-धीरे भारत में स्वयं-शासित संस्थानों को पेश करने के लिए पेश किया गया

मोंटेगू-चेम्सफोर्ड सुधार या अधिक संक्षेप में मोंट-फोर्ड सुधार के रूप में जाना जाते, भारत में ब्रिटिश सरकार द्वार धीरे-धीरे भारत को स्वराज्य संस्थान का दर्ज़ा देने के लिए पेश किये गए सुधार थे। सुधारों का नाम प्रथम विश्व युद्ध के दौरान भारत के राज्य सचिव एडविन सेमुअल मोंटेगू, 1916 और 1921 के बीच भारत के वायसराय रहे लॉर्ड चेम्सफोर्ड के नाम पर पड़ा। इसे भारत सरकार अधिनियम का आधार 1919 की आधार पर बनाया गया था।

सन्दर्भसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें