स्मार्टफोन का अत्यधिक उपयोग एक मनोवैज्ञानिक समस्या बन चुका है। यह समस्या अन्य प्रकार के डिजिटल माध्यमों के अति-प्रयोग से जुड़ा हुआ है।[1]

एक पार्टी के दौरान युवक-युवतियाँ अपने-अपने मोबाइल पर व्यस्त हैं।

कैसे जाने की आपको मोबाईल की लत लग चुकी हैसंपादित करें

तो सबसे पहले जानते हैं, कि कैसे पता की आपको मोबाईल की लत लग चुकी है।

नीचे लिखी हुई बातों से आप जन सकते हैं, कि किसीको मोबाईल की लत लग चुकी है या नहीं।

  • अगर आप खाने के समय में बार-बार मोबाईल का उपयोग करते हैं।
  • लोगों से व्यक्तिगत रूप से बातचीत करने की तुलना में अधिक समय आप फोन पर बिताते हैं।
  • आप किसी जरूरी काम में होते हैं फिर भी बार-बार अपने मोबाईल का उपयोग करते है।
  • आप ऐसे काम के बीच में मोबाईल का उपयोग करते है, जिसमे आपके ध्यान ( फोकस ) की अधिक आवश्यकता होती है। जैसे कि - कोई असाइनमेंट पूरा करते समय या फिर गाड़ी चलाते समय।
  • जब आपका फोन आपके पास नहीं होता तो आप असहज (uncomfortable) महसूस करते हैं।
  • आप रात को उठकर अपना मोबाईल चेक करते हैं।

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "स्मार्टफोन की लत है नोमोफोबिया, नहीं छूटी तो शरीर में हो सकती हैं इतनी बीमारियां". Amar Ujala. अभिगमन तिथि 29 January 2021.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें