मुख्य मेनू खोलें

मौर्यपुत्र भगवान महावीर के ७ वें गणधर (शिष्य) थे। भगवान महावीर के जीवन काल मे ही इन्होंने निर्वाण प्राप्त किया।